×

दुनिया के 3 असाधारण इंसान जिनके आगे विज्ञान भी हुआ फ़ैल । 3 Extraordinary People

दुनिया के 3 असाधारण इंसान जिनके आगे विज्ञान भी हुआ फ़ैल । 3 Extraordinary People

In : Meri kalam se By storytimes About :-9 months ago
+

किसी ने किया डॉक्टर्स हेरान तो किसी को गणित में थी महारथ हासिल कोई नही खा रहा है सालो से खाना |  3 Extraordinary People In Hindi

दोस्तों जब इंसान का जन्म होता है तब व कई इंसानी शक्तियों के साथ इस संसार में जन्म लेता है। देखने की शक्ति, सोचने की शक्ति इन सब गुणों के साथ इंसान इस पृथ्वी पर जन्म लेता है। इंसान का दिमाग ही इंसान को और विकसित करता है। दोस्तों हमारे शरीर में कई ऐसी छुपी हुई शक्तियां है जिनसे हम अनजान है। वैज्ञानिकों का मानना है की जितना हम अपने रोजमर्रा के काम में शक्तियों का उपयोग करते है उससे कई गुना शक्तियां हमारे शरीर में मौजूद है। वैज्ञानिकों का मानना है की  इंसान अपने दिमाग को  20 से 21 परसेंट ही यूज़ कर पाते है। बाकि 70 परसेंट दिमाग का तो यूज़ ही नहीं होता है। लेकिन दोस्तों दुनिया में कुछ लोग ऐसे है जिनका बाकि 70% दिमाग एक्टिव हो गया। जिसका उपयोग आम इंसान नहीं कर पाता। तो चलिए दोस्तों अब हम जानते है उन 3 लोगो के बारे में जिनकी शक्तियां जानकर हमारा दिमाग भी काम नहीं करेगा और वो बिलकुल हमारी सोच से परे है। अब जानते है उन 3 महान लोगो के बारे में।

एड्गर कायसए | Edgar Cayce

3 Extraordinary People

Source cdn.newsapi.com.au

ऐडकर गाइस का जन्म 18 मार्च 1877 में अमेरिका में हुआ। इनके जीवन में एक बार ऐसी घटना घटी जब ऐडकर गाइस  25 साल के थे। किसी वजह से गिर जाने के कारण ऐडकर गाइस कोमा में चले गए उन्हें तुरंत हॉस्पिटल ले जाया गया और डॉक्टर ने काफी प्रयास किये लेकिन ऐडकर गाइस को होश में नहीं ला पाए। थोड़े दिन बाद एक चमत्कार हुआ और ऐडकर गाइस बोल पड़े आश्चर्य की बात तो ये है की जब ऐडकर गाइस बोल रहे थे तब वो होश में नहीं थे। और अभी भी कोमा में थे। उस समय ऐडकर गाइस के शरीर पर हाथ से मारा जाये तो भी उन्हें पता नहीं चल रहा था। लेकिन ये चमत्कार था की वो बोल रहे थे ऐडकर गाइस ने बताया की में पेड़ से गिर गया था मेरी रीड की हड्डी व दिमाग पर चोट लग गई ऐडकर गाइस बताया की मेरा 2 दिन में इलाज नहीं हुआ तो में मर जाऊँगा ऐडकर गाइस ने डॉक्टर्स को ऐसी जड़ी-बूटिया बताई की ये मेरे इलाज में काम ली जाये तो में बच सकता हु। ये सब बोल कर वो फिर से बेहोश गए। दोस्तों आश्चर्य की बात तो ये है की ऐडकर गाइस कोई डॉक्टर नहीं थे और ना ही इसके बारे में कुछ जानते थे। फिर बाद में उन जड़ी-बूटियों की खोज की गई और Amazon के जगल में ये जड़ी-बूटिया मिली। और ऐडकर गाइस का इलाज किया गया दोस्तों ऐडकर गाइस अब होश में आ गए थे। जब उनसे ये सारी बाते पूछी गई तो उन्हें कुछ मालूम नहीं था। दोस्तों इस घटना के बाद ऐडकर गाइस एक अजीब परिवर्तन हो गया वो जब भी आँख बंद कर के किसी बीमारी के बारे में सोचते है तो उनको कुछ इलाज मिल ही जाता है। दोस्तों आपको बता दू की ऐडकर गाइस 30 हजार से अधिक लोगो को मौत के मुँह से बचा चुके है। दोस्तों आप इस जानकरी गूगल सर्च कर के भी पढ़ सकते है।

श्रीनिवास रामानुजन | Srinivasa Ramanujan

3 Extraordinary People

श्रीनिवास रामानुजन का जन्म दक्षिण भारत के कुंभकोणम गांव में  22 दिसंबर 1887 को हुआ था। रामानुजन एक अकल्पनीय  गणित के विद्वान थे। दोस्तों रामानुजन का जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था। और उनके परिवार के लोग ज्यादा शिक्षित नहीं थे। वो खुद 10 कक्षा में फ़ैल हो गए थे। लेकिन दोस्तों रामानुज  गणित विषय में इतने होशियार थे की रामानुजन से बड़ा गणित का विद्वान इस धरती पर अभी तक पैदा ही नहीं हुआ। दोस्तों दुनिया में गणित के कई बड़े धुरंदर है लेकिन रामानुजन  में कुछ अलग ही बात थी।  रामानुजन गणित के कई बड़े सवालों को कुछ ही  सेकण्ड में हल कर देते है। किसी भी  सवाल का जबाब देने के लिए हर आम इंसान को थोड़ा वक्त चाहिए होता है लेकिन  रामानुजन  सवाल पूछते है उस सवाल का जबाब निकाल  लेते थे। कहा जाता है की जिन सवालो का जबाब दुनिया के जाने-माने गणितज्ञ 11 से 12 घंटे तक नहीं दे पाते थे। उन सवालो का जबाब रामानुजन कुछ ही सेकंड में दे देते थे।  बाद में रामानुजन  को Hardi दुनिया की सबसे बड़ी गणितज्ञों की युनिवर्सिटी में बुलाया गया और उनके दिमाग का पर रिसर्च की गई और सिर्फ इतना पता लगा की रामानुजन दिमाग से किसी भी सवाल का जबाब नहीं देते है। क्योकि वो सोचने का समय ही नहीं लेते दोस्तों ये महान हस्ती मात्र 32 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। दोस्तों आज भी रामानुजन  को गणित की दुनिया में भगवान माना जाता है।

प्रल्हाद जानी | Prahlad Jani

3 Extraordinary People

Source www.ize.hu

दोस्तों अब लिस्ट में आते है प्रल्हाद जानी जो गुजरात शहर से 150 किलोमीटर दुरी पर एक शक्तिपिट है । इसके पीछे ही प्रल्हाद जानी अपने आश्रम में रहते है। दोस्तों प्रल्हाद जानी का जन्म 13 अगस्त 1929  गुजरात के एक छोटे से गांव चरदा  में हुआ था। दोस्तों इन का सबसे बड़ा रहस्य ये की जब ये 11 साल के थे यानी 1940 से आज तक इन्होंने ना तो खाना खाया है और ना ही पानी पिया है। वो बताते है की जब वो 11 साल के थे तब से उन्होंने अन्न और जल त्याग दिया। दोस्तों आज प्रह्लाद जानी 89 साल के हो गए है और बिना कुछ खाएं-पिए जी रहे है । दोस्तों ये बात तो हम भी जानते है की कोई भी इंसान ज्यादा दिन तक खाएं पिए बिना जिन्दा नहीं रह सकता दोस्तों बिना अन्न और जल के जीना किसी चमत्कार से कम नहीं है। दोस्तों इस घटना की पूरी जानकरी Discovery चैनल और National Geography, और लगभग इंडिया के सभी न्यूज़ चैनल पर दिखाई जा चुकी है। प्रहलाद जानी को 1  महीने के लिए एक हॉस्पिटल में रखा गया जिसमे चारो तरफ कैमरे लगे हुए थे और प्रहलाद जानी ने पुरे एक महीने तक कुछ भी नहीं खाया इससे ये साबित होता है की ये भी एक अजूबा है। प्रहलाद जानी ने बताया की ये सब योग की वजह से मुमकिन हो पाया है


दोस्तों मुझे उम्मीद है की मेरे द्वारा दी गई जानकरी से आपको काफी अच्छा लगा होगा  इसे अपने परिवार व दोस्त के साथ जरूर शेयर करे ताकि उन को भी ऐसे महान लोगो के बारे में पढ़ने को मिले। धन्यवाद