×

लड़के को सिखाए ये सब जरूरी बातें, लाइफ में आएगी काम

लड़के को सिखाए ये सब जरूरी बातें, लाइफ में आएगी काम

In : Viral Stories By storytimes About :-2 years ago
+

लड़के को सिखाए​ ये सब जरूरी बातें, लाइफ में आएगी काम 

अपने बच्चे की परवरिश करना मां-बाप के लिए बड़ी जिम्मेदारी होती है। बच्चों के शौक पूरे करना, उन्हें अच्छे स्कूल भेजना और उनपर खर्च करना ही परवरिश नहीं कहलाती। जरूरी है कि आप उसे कैसे संस्कार देते हैं। रोज की छोटी-छोटी बातों से बच्चे धारणाएं बना लेते हैं। जितना उन्हें दिखता है, वे उतने में ही फैसला कर लेते हैं कि यह सही है, वह wrong है, आदि। ऐसे में मां-बाप को ध्यान रखना चाहिए कि उनका बच्चा क्या सीख रहा है। बच्चों की परवरिश में कहीं से भी जेंडर स्टीरियोटाईप नहीं होना चाहिए। अक्सर लड़कों को सिखाया जाता है कि उन्हें रोना नहीं चाहिए क्योंकि वे लड़के हैं। धीरे-धीरे बच्चा रोने को बुरा समझ लेता है। इस आदत के रीजन कई टाइम वह या तो हिंसक हो जाता है या घुटता रहता है। ऐसी ही कई बाते हैं जो बच्चे पेरेंटिंग के दौरान अपना लेते हैं और बाद में उन्हें इससे खासी दिक्कत होती है। अगर आप लड़के के अभिभावक हैं, तो उन्हें बचपन से ही इन बातों के जरूर सिखाएं...

 All these essential things

source

शोषण के बारे में बताए 
कई लोगों को यह गलतफहमी होती है कि यौन शोषण सिर्फ लड़कियों का होता है। सच यह है कि लड़कों के साथ भी ऐसी घटनाएं होती हैं। उन्हें हमेशा इसके खिलाफ बोलना और अपना बचाव करना सिखाएं। लड़कों को गुड टच/बैड टच की शिक्षा देना बेहद जरूरी है।

 All these essential things

source

सिखाए सामान्य शिष्टाचार 
सामान्य शिष्टाचार लड़कियों की परवरिश का एक अहम हिस्सा होता है। कहां किस तरह पेश आना है यह लड़कियां अच्छे से जानती हैं। इसके विपरीत लड़के ऐसा नहीं कर पाते हैं। यदि बचपन से ही हम लड़कों को शिष्टाचार सिखाएंगे तो ये उनकी पर्सनैलिटी का हिस्सा बन जाएंगे।

source

रोना बुरा नहीं है
'लड़को को कभी दर्द नहीं होता | वे कभी रोते नहीं है', यह लड़कों को बचपन से सिखाया जाने वाला वह झूठ है जिसका खामियाजा उन्हें सारी उम्र भुगतना पड़ता है। यह बात सही है कि किसी बुरी परिस्थिती में रोने की बजाय उसका हिम्मत से सामना करना चाहिए, लेकिन कई बार जी हल्का करने के लिए जी भर कर रोना भी जरूरी होता है। ऐसे में सिर्फ बॉयज होने के रीजन से न रोना लड़के के अंदर डिप्रेशन  पैदा कर सकता है।

 All these essential things

source

सहमति है जरूरी 
जहां एक ओर लड़कियां छोटे-छोटे फैसले भी घरवालों से पूछकर लेती हैं, वहीं लड़के अपनी मर्जी के मालिक होते हैं। इसी फितरत के कारण कई बार घर में या पति-पत्नी में झगड़े की स्थिति पैदा हो जाती है। बचपन से ही उन्हें जिम्मेदार और दूसरों के प्रति जवाबदेह होना सिखाना चाहिए। उन्हें पता हो कि फैसले लेने में दूसरों की सहमति भी जरूरी है।