×

इन भारतीय दिग्गजों को करना पड़ा अविश्वास प्रस्ताव का सामना | Avishwas Prastav in India

इन भारतीय दिग्गजों को करना पड़ा अविश्वास प्रस्ताव का सामना | Avishwas Prastav in India

In : Politics By storytimes About :-10 months ago
+

भारत मे अविश्वास प्रस्ताव का इतिहास | Avishwas Prastav History in India

कभी नोटबंदी के कारण तो कभी जीएसटी की वजह से सुर्खियां बटोरने वाली मोदी सरकार एक दफा  फिर सुर्खियों  में है। इस दफा  सुर्खियों  का कारण सरकार की कोई नई योजना या मोदीजी की विदेश यात्रा (travel)  नहीं अपितु  अविश्वास प्रस्ताव है। यह पहला अवसर  है जब मोदी सरकार के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया। हालांकि इस अविश्वास प्रस्ताव में विपक्ष को मुँह की खानी पड़ी है।

इससे पहले भी देश में 26 दफा  अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा में अपनी धमक मचा चुका है। रोचक बात यह है कि 26 में से 15 दफा  ये प्रस्ताव एक ही सरकार के विरुद्ध (against) पेश किए गए थे और मात्र 3 दफा सरकार गिराई गई। तो चलिए जानते हैं देश के सबसे पॉपुलर अविश्वास प्रस्तावों के सम्बन्ध में पूरी जानकारी। 

पंडित जवाहर लाल नेहरू

Aviswas Prastav in India via : .amazonaws.com

देश का पहला अविश्वास प्रस्ताव पं जवाहर लाल नेहरू की सरकार के विरुद्ध लाया गया था। ये प्रस्ताव समाजवादी नेता आचार्य कृपलानी ने 1963 में पेश किया था। हालांकि सरकार पर इसका कोई प्रभाव (effect) नहीं पड़ा, किन्तु देश  (india) में अविश्वास प्रस्ताव लाने का चलन शुरू हो गया।

इंद्रा गाँधी

Aviswas Prastav in India via : amazonaws.com

इंदिरा गांधी सरकार के कार्यकाल में कुल 15 दफा  प्रस्ताव पेश किए गए। जिसमें से 1966 से 1975 के बीच 12 दफा  और 1981 एवं 1982 में तीन दफा  ऐसा हुआ। इसी के कारण इंदिरा गांधी के नाम (name) सबसे अधिक अविश्वास प्रस्ताव झेलने का रिकार्ड है। 

अटल बिहारी वाजपेयी

Aviswas Prastav in India via : amazonaws.com

अविश्वास प्रस्ताव के कारण आज तक मात्र 3 दफा  सरकार गिराई गई, जिसमें वी.पी. सिंह, एच.डी. देवेगौड़ा और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार का नाम (name) शामिल है। 

किस-किस वर्ष में गिरी सरकार

पहली दफा 7 नवंबर 1990 को अविश्वास प्रस्ताव के कारण वी.पी.सिंह की सरकार गिराई गई थी। दूसरी दफा  11 अप्रैल 1997 को देवेगौड़ा सरकार विपक्ष से समर्थन पाने में नाकाम रही और तीसरी दफा  17 अप्रैल 1999 को अटल बिहारी वाजपेयी सरकार सिर्फ एक वोट से हारी थी।

लाल बहादुर शास्त्री

Aviswas Prastav in India via : india.com

देश का दूसरा अविश्वास प्रस्ताव लाल बहादुर शास्त्री के विरुद्ध 1964 में लाया गया था। इसके बाद 1965 के दौरान उन्हें दो दफा  और अविश्वास प्रस्ताव की अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ा।

नरेंद्र मोदी

Aviswas Prastav in India via : patrika.com

मोदी सरकार के विरुद्ध आए इस अविश्वास प्रस्ताव से पहले आखिरी दफा  2003 में कांग्रेस ने अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली तत्कालीन एनडीए सरकार के विरुद्ध प्रस्ताव रखा था।