×

प्रोफेशनल हो या पर्सनल, हर र‍िश्‍ते में ऐसे रखें ट्रांसपैरेंसी

प्रोफेशनल हो या पर्सनल, हर र‍िश्‍ते में ऐसे रखें ट्रांसपैरेंसी

In : Viral Stories By storytimes About :-2 years ago
+

संबंधों की पारदर्शिता
अपने रिश्तों को संभालना और संवारना भी एक कला है। यह बात बिलकुल सही है कि हमारे संबंधों में पूरी सच्चाई होनी चाहिए लेकिन पारदर्शिता के मामले में सजगता क्यों ज़रूरी है, जानने के लिए ज़रूर पढ़ें यह लेख। पता नहीं वो लोग मेरे बारे में क्या सोच रहे होंगे, मुझे उनसे यह सब नहीं कहना चाहिए था, दीदी को मैंने आकाश की नाराज़गी के बारे में बेकार ही बता दिया, अब तो यह बात सारे रिश्तेदारों को मालूम हो जाएगी...। कई बार जीवन में ऐसी स्थितियां आती हैं, जब हमारे मन में यह सवाल उठता है कि अपने संबंधों के मामले में हमें कितनी पारदर्शिता बरतनी चाहिए? यहां मनोवैज्ञानिक सलाहकार सुनीता पाण्डेय बता रही हैं कि अपने रिश्तों को निभाते समय हमें किस तरह और कितनी पारदर्शिता बरतनी चाहिए...      

source

दांपत्य की दहलीज़
पति-पत्नी का रिश्ता बेहद नाज़ुक होता है। इसलिए दांपत्य जीवन की दहलीज़ पर कदम रखते ही आपको अपने रिश्ते के प्रति संजीदा हो जाना चाहिए। शादी के बाद पति-पत्नी एक नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं। इसलिए उनके रिश्ते में सहजता और खुलापन होना बहुत ज़रूरी है। लाइफ पार्टनर के साथ अपने मन से जुड़ी हर बात खुलकर शेयर करें।  दुराव-छिपाव के लिए इस रिश्ते में कोई जगह नहीं होनी चाहिए क्योंकि इससे पति-पत्नी के बीच शक की दीवार खड़ी हो जाती है। इसलिए अपने अतीत पर पति-पत्नी दोनों का निजी अधिकार होता है। आपको लाइफ पार्टनर के साथ ऐसी बातें शेयर नहीं करनी चाहिए, जिनकी वजह से रिश्ते में कड़वाहट पैदा हो। अपने साथी को थोड़ा पर्सनल स्पेस भी दें। छोटी-छोटी बातों को लेकर पति या पत्नी से बहुत ज्य़ादा पूछताछ न करें।  

source

दोस्ती में न हो कुश्ती
जब दोस्ती का जि़क्र होता होता है तो इस रिश्ते के लिए सबसे ज्य़ादा बेत कल्लुफी और खुलेपन की बात की जाती है। कुछ हद तक यह बात सच भी है लेकिन इससे पहले आपको अपने दोस्तों की पहचान भी होनी चाहिए। निजी जीवन से जुड़ी समस्याओं पर केवल उन्हीं दोस्तों से बातचीत करें, जिन पर आपको भरोसा हो लेकिन उन्हें भी अपने वित्तीय मामलों से संबंधित सारी बातें न बताएं। उनके साथ आप सिनेमा, साहित्य और संस्कृति से जुड़ी हलकी-फुलकी बातचीत कर सकते हैं। यह न भूलें कि कुछ बातें बेहद निजी होती हैं, जिन्हें किसी के भी साथ शेयर नहीं करना चाहिए। दोस्ती को खुशनुमा बनाने के लिए यह भी ज़रूरी है कि हम इस रिश्ते को भी थोड़ा पर्सनल स्पेस दें ।