×

देश भक्ति हिंदी शायरी | Desh Bhakati Hindi Shayri

देश भक्ति हिंदी शायरी | Desh Bhakati Hindi Shayri

In : National By storytimes About :-11 months ago
+

देश भक्ति हिंदी शायरी | Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 1

न पुछो ज़माने को, क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिन्दुस्तानी हैं ……!!!

Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 2

शहीदों के मजारों पर जुड़ेंगे हर बरस मेले,

वतन पे मरने वालों का यही बाकी निशां होगा।

Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 3 

भारत का वीर जवान हूँ मैं,
ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं,
जख्मो से भरा सीना हैं मगर,
दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं,
भारत का वीर जवान हूँ मैं.

Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 4 

मन को खुद ही मगन कर लो,
कभी-कभी शहीदों को भी नमन कर लो.


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 5

जो देश के लिए शहीद हुए
उनको मेरा सलाम है
अपने खून से जिस जमीं को सींचा
उन बहादुरों को सलाम है..


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 6

चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए,
मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए,


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 7

तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं,
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं.


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 8

तिरंगे ने मायूस होकर “सरकार” से पूछा कि ये क्या हो रहा हैं,
मेरा लहराने में कम और कफन में ज्यादा इस्तेमाल हो रहा हैं.


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 9

सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ !
दुश्मन की सांसे थम जायें, आवाज में इतनी धमक रखता हूँ !!


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 10

कर जज्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर दुश्मन को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बँटवाएंगे !!


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 11

इस वतन के रखवाले हैं हम
शेर ए जिगर वाले हैं हम
मौत से हम नहीं डरते
मौत को बाँहों में पाले हैं हम


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 12

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं,
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं.


Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 13

अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं,
इसलिए मेरा भारत देश महान हैं.

Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 14

जब देश में थी दिवाली, वो झेल रहे थे गोली
जब हम बैठे थे घरों में, वो खेल रहे थे होली
क्या लोग थे वो अभिमानी
है धन्य वो उनकी जवानी

Desh Bhakati Hindi Shayri

#. 15

अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं

Desh Bhakati Hindi Shayri