×

घर को बनाये इन वास्तु टिप्स के अनुसार रहेगी हमेशा सुख शांति | Best House Architectural Tips In Hindi

घर को बनाये इन वास्तु टिप्स के अनुसार रहेगी हमेशा सुख शांति | Best House Architectural Tips In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-3 months ago
+

घर में सुख समृद्धि के लिए अपनाये ये वास्तु टिप्स | House Design Architectural Tips In Hindi

जब घर में सब काम शांति और खुशी से हो तब घर का मुखिया अपने जीवन की सभी चिंताओं को भूल जाता है और वो अपने आगे के जीवन के लिए नई सोच सोचना शुरू कर देता है घर में जब सुख और शांति हो तब परिवार में सभी सदस्यों का मानसिक विकास भी बढ़ता है और यदि इसके विपरीत घर में कलह का माहौल बना रहता है तो व्यक्ति के दिमाग में हर समय कोई न कोई टेंसन चलती है रहती है वह खुद के काम भी ढंग से नहीं कर पाता और दिमाग में चल रहे टेंसन के जाल में वो कैद हो जाता इस वजह से वो मानसिक रूप से बीमार हो जाता है जब व्यक्ति का दिमाग स्थिर नहीं हो तो वो तरक्की कैसे कर सकता है

हम ये बात मानते है की घर में सुख शांति का पहला कदम घर के सदस्यों पर ही निर्भर करता है की वो अपने परिवार में चल रही समस्याओं का निदान किस प्रकार करते है

लेकिन साथ ही लोग घर की सुख शांति के लिए घर की बनावट और उसको सजाने के लिए कोनसी वस्तु किस दिशा में डिजाइन करनी इन चीजों को भी महत्व देते है यानी घर में हर वस्तु को वास्तु के मुताबित रखते है

यदि दोस्तों आप नई घर का निर्माण करवाने के बारे में सोच रहे है और आप चाहते है की आपके परिवार में किसी भी प्रकार की कलह न हो और मेरा पूरा परिवार सुख शांति से जिए तो आज हम 

आपको घर बनाते समय वास्तु के दिशा निर्देश बताएंगे जो आपको और आपके परिवार को हमेशा दुखों से दूर रखेगा और आपके परिवार में हमेशा शांति बनी रहेगी

घर के निर्माण के समय वास्तु कला को लोग वैदिक काल से देखकर ही करते आये है वैदिक काल से ही ऐसा माना जाता है भवन के निर्माण में दिशा का काफी महत्व है

इसलिए ऐसा माना जाता की यदि आपके भवन का निर्माण सही वास्तु में किया गया है तो आपके घर से संकट और परेशानियां कोसों दूर रहती है साथ ही घर में हसीं खुशी का माहौल बना रहता है

कुल मिलाकर यदि आप अपने परिवार में खुशी,कीर्ति,सम्पति, स्वास्थ्य, सभी चीजों का एक साथ मेल चाहते है तो आज हम आपको कुछ वास्तु टिप्स बताने जा रहे जो आप ध्यान से पढ़े और समझे

जमीन खरीदने के लिए उपयुक्त दिशा उत्तर-पूर्व

यदि आप घर बनाने के लिए जमीन की तलाश कर रहे है तो दोस्तों वास्तु के अनुसार उत्तर-पूर्व दिशा में ही जमीन ख़रीदे आपके घर बनाने के लिए सबसे उच्च और उपयुक्त दिशा है

घर के चारो कोने 90 डिग्री में हो

Best House Architectural Tips In Hindi

Source static-news.moneycontrol.com

यदि आप घर का निर्माण करने जा रहे है तो इस बात का अवश्य ध्यान रखे अपने घर के चारो कोने 90 डिग्री की स्थित में होने चाहिए वास्तु के अनुसार यदि इस स्थित में आपके घर की बनावट नहीं है तो यह वास्तु दोष माना जाता है वास्तु के अनुसार सभी दिशाओ में देवताओँ की नजर होती और ये वक्रता होने से देवता नाराज होते है इस वजह से घर में सुख शांति का माहौल नहीं रहता है और आये दिन परेशानियां हमारे घर की चोकट पर खड़ी रहती है

वर्गाकार और आयताकार में ही ख़रीदे घर के लिए जमीन

यदि दोस्तों आप अपने सपनो का घर बनाने के लिए भूमि खरीदने के बारे में सोच रहे है तो तो इस बात का अवश्य ध्यान रखें की वो भूमि वर्गाकार या फिर आयताकार जरूर हो और साथ में उस भूमि का उत्तर-पूर्व की दिशा में बिलकुल झुकाव न हो 

दक्षिणमुखी  नहीं हो घर का मुख्य द्वार

हम सभी घर में सुख शांति चाहते है और ये बात घर की सुख समृद्धि के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है जब भी घर का निर्माण करे उस समय इस बात का अवश्य ध्यान रखें की आपके घर का मुख्य द्वार दक्षिण की और न हो बल्कि वास्तु के अनुसार मुख्य द्वार की दिशा उत्तर और पूर्वमुखी की और उचित माना जाता है

यदि फिर भी दोस्तों आपके घर का मुख्य द्वारा दक्षिण की और है और आप अपने घर में सुख शांति का वातावरण चाहते है तो आप अपने घर के मुख्य द्वार एक शीशा लगा दे ऐसा करने से आपके घर में नकारात्मक चीजों का प्रवेश नहीं हो पाता और आपके घर में सदा सुख और शांति बनी रहती है 

किचन की दिशा दक्षिण-पूर्व में है शुभ

Best House Architectural Tips In Hindi

Source nimvo.com

घर में सबसे महत्वपूर्ण जगह होती है किचन वास्तु के अनुसार किचन बनाने की सबसे उपयोगी दिशा दक्षिण-पूर्व है इस बात का अवश्य ध्यान रखें की घर की रसोई के सामने बाथरूम और पूजा का स्थान नहीं होनी चाहिए साथ ही घर के किचन में कभी भी दवाइयां नहीं रखें

घर के मुखिया का कमरा हो दक्षिण-पश्चिम की और

दोस्तों वास्तु के अनुसार घर के मुखिया का कमरा दक्षिण-पश्चिम और शुभ माना जाता है यदि फिर भी आपके पास ये दिशा उपलब्ध नहीं है तो आप इस दिशा में घर का बैठक रूम भी बनवा सकते है और घर में बाकि कमरों की दिशा उत्तर-पूर्व की और हो

रूम में बेड के सामने कभी भी कांच न लगाए या फिर कमरे में खंडित हुआ शीशा कभी न रखें और रत को आपकी सोने की स्थित सिर दक्षिण में और पैर उत्तर की तरफ होने चाहिए

सूर्य की रोशनी में घर के खड़की दरवाजें

घर में सूर्य की करने आना शुभ माना जाता है इससे घर के सभी लोगो का स्वास्थ्य सही रहता है इसलिए आप जब घर का निर्माण करने जाये तब घर की खिड़कियों की दिशा ऐसी हो की रोशनी आसानी से घर में आ सकें 

किस तरफ हो पूजा पाठ का स्थान

Best House Architectural Tips In Hindi

Source img.patrika.com

भारतीयों शस्त्रों में घर में पूजा पाठ को सबसे अधिक महत्व दिया गया है पूजा पाठ करने से घर में शांति बनी रहती है और घर में देवता निवास करते है घर में पूजा पाठ के लिए उत्तर-पूर्व दिशा सबसे उपयुक्त है यदि फिर भी कारणवश आपके पास इस दिशा में जगह नहीं है तो आप घर में पूजा पाठ के लिए उत्तर की दिशा भी चुन सकते है

घर के पूजा मंदिर पर कभी गुंबद न बनाये और पूजा घर कभी सीढ़ियों के निचे न बनाये ये अशुभ माना जाता है

किस दिशा में घर का टॉयलेट

घर में सोच के लिए सबसे उपयुक्त दिशा दक्षिण-पश्चिम है इस दिशा में ही घर में टायलेट का निर्माण करवाएं

बच्चों का स्टडी रूम हो दक्षिण दिशा में

Best House Architectural Tips In Hindi

Source enemi.co

वास्तु के अनुसार यदि घर में बच्चो की पढ़ाई के लिए दक्षिण दिशा में स्टडी रूम बनाया जाये तो आगे जाकर बच्चें कुछ बड़ा करते है और पढ़ाई के प्रति उनकी रूचि हमेशा बनी रहती है

मेहमानों के लिए बैठक रूम की दिशा

वास्तु के माध्यम बनाये गए घर में हमेशा सुख समृद्धि का वास रहता है वास्तु के मध्यनजर यदि हम मेहमानों के बैठक रूम को उत्तर-पूर्व की और बनाये तो ये काफी अच्छा है यदि फिर भी आप इस दिशा में गेस्ट रूम नहीं बना पा रहे है तो इसकी दूसरी सबसे अच्छी दिशा है उत्तर-पश्चिम इस दिशा में गेस्ट रूम बना कर भी आप वास्तु दोष से बच सकते है

Read More - नए घर के लिए पहले इन चीज़ो पर करे विचार