×

पुराने लैपटॉप और कंप्यूटर पीसी को फास्ट और स्मूद करना है तो करें कुछ ऐसा...

पुराने लैपटॉप और कंप्यूटर पीसी को फास्ट और स्मूद करना है तो करें कुछ ऐसा...

In : Technology By storytimes About :-1 year ago
+

make old laptop and pc faster

पुराने विंडोज लैपटॉप की अपेक्षा नए लैपटॉप्स काफी बेहतर हो गए हैं। नए लैपटॉप न सिर्फ स्लिम, स्टाइलिश, हल्के और पावरफुल होते हैं, बल्कि हर वह कार्य करने में सक्षम होते हैं, जो पहले सिर्फ डेस्कटॉप पर ही हो पाते थे। मगर लैपटॉप पुराना हो जाए, तो फिर अक्सर लोग इसके धीमा हो जाने की शिकायत करते हैं। हालांकि कुछ तरीके हैं, जिनकी मदद से पुराने लैपटॉप को भी फ़ास्ट परफॉर्मेंस स्मूद(Smooth) बनाया जा सकता है।

सी ड्राइव(C drive) रखें खाली :

यदि आप ब्रांडेड कम्प्यूटर लेते हैं, तो उसमें सिर्फ सी ड्राइव ही होती है। मगर सुरक्षा की दृष्टि से कई लोग हार्ड ड्राइव में पार्टिशन बना देते हैं। सी ड्राइव में विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम (Windows operating system) और डी, ई, एफ आदि में DATA रखते हैं। ड्राइव का पार्टिशन करना अच्छा है, क्योंकि सॉफ्टवेयर में कुछ परेशानी आती है, तो आपका डाटा बच जाएगा। हालांकि सी ड्राइव को जितना खाली रखेंगे, लैपटॉप उतना ही बेहतर कार्य करेगा। यह तेजी से ऑन होगा और परफॉर्मेंस भी स्मूद रहेगा।

टेंपरेरी फाइल्स करें डिलीट :

source

लैपटॉप पर कार्य करने के दौरान टेंपरेरी फाइल्स(Temparary files) बनती हैं। इनमें कुछ तो डॉक्यूमेंट बंद करने के साथ ही नष्ट हो जाती हैं लेकिन कुछ लैपटॉप में स्टोर हो जाती है। ये फाइलें सी ड्राइव में स्टोर होती हैं, जो ज्यादा भरने पर लैपटॉप को धीमा करती हैं। इसलिए इन्हें सर्च करके नष्ट कर दें, तो बेहतर होगा।

डिस्क करें क्लीन :

अपने लैपटॉप की सी ड्राइव(C drive) के अलावा बाकी डिस्क भी क्लियर रखें, तो बेहतर होगा। इसके लिए लैपटॉप के Run में जाकर (कीबोर्ड से कंट्रोल और आर को एक साथ प्रेस करेंगे, तो भी रन आ जाएगा) आप बनी cleanmgr.exe लिखकर एंटर करेंगे, तो डिस्क क्लीन हो जाएगी।

स्टार्टअप एप्स करें बंद :

कई एप्स ऐसे होते हैं, जो लैपटॉप स्टार्ट होने के साथ ही ऑन हो जाते हैं। इन्हें स्टार्टअप एप्स(Startup apps) कहते हैं। ये एप्स लैपटॉप के स्टार्ट को और धीमा कर देते हैं। ऐसे में इनमें से जो एप्स आपके काम के नहीं हैं, उन्हें डिसएबल कर दें। इसके लिए विंडोज पीसी के रन में जाएं और वहां msconfig टाइप करें। अब जब सिस्टम कॉन्फिग्रेशन(System configuration) ओपन होगा, तो आपको सर्विस पर क्लिक करना है और उन सभी एप्स को अनचेक करना है, जिनका आप उपयोग नहीं करते।

माइक्रोसॉफ्ट फिक्स इट सेण्टर:

source

कम्प्यूटर और लैपटॉप के लिए माइक्रोसॉफ्ट का ही एक टूल है माइक्रोसॉफ्ट फिक्स इट। यह लैपटॉप के परफॉर्मेंस को बेहतर बनाता है। यह मुफ्त में उपलब्ध है। इसे डाउनलोड कर रन करने पर न सिर्फ लैपटॉप का परफॉर्मेंस स्मूद(Smooth) होगा, बल्कि स्पीड भी बढ़ जाएगी।

कैश-कुकीज करें क्लीन:

जब आप इंटरनेट ब्राउज करते हैं, तो बहुत सारा डाटा कैश के रूप में सेव होता रहता है। इसके अलावा कुकीज और हिस्ट्री भी सेव होते रहते हैं। जब ये ब्राउजिंग को धीमा करने लगें, तो ब्राउजर से कैश(Cache memory) को क्लीन करते रहना बेहतर होता है।

ओएस व एप्स रखें अपडेट:

source

समय-समय पर विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का अपडेट आता है। आप कोशिश करें कि ऑपरेटिंग सिस्टम कोहमेशा अपडेट रखें। हालांकि कई लोग पीसी को फास्ट करने के लिए सिस्टम अपडेट को बंद कर देते हैं लेकिन इससे नुकसान ही होता है। इससे सिस्टम की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती है। इसके अलावा लैपटॉप में जो सॉफ्टवेयर्स हैं, उन्हें भी अपडेट रख पायरेटेड सॉफ्टवेयर से रहें दूर विंडोज पीसी के लिए पायरेटेड सॉफ्टवेयर की भरमार है। ये लैपटॉप को धीमा करते हैं। एक सॉफ्टवेयर के साथ कई दूसरे सॉफ्टवेयर भी डाउनलोड हो जाते हैं और लैपटॉप को नुकसान पहुंचाते है।

लैपटॉप को करें रीस्टार्ट: 

कई लोग अपने लैपटॉप को महीनों तक हाइबरनेट(Hibernate) पर ही रखते हैं। कुछ दिन तक तो यह ठीक है लेकिन जब महीने भर तक हाइबरनेट पर ही रखते हैं, तो उससे परफॉर्मेंस पर फर्क पड़ता है। इसलिए कोशिश करें कि कुछ दिनों के अंतराल पर लैपटॉप को पूरी तरह शट-डाउन कर रीस्टार्ट करें। इससे परफॉर्मेंस ठीकहो जाता है।

सीसी क्लीनर(CC cleaner):

source

विंडोज लैपटॉप पीसी के लिए सीसी क्लीनर(CC cleaner) बहुत अच्छा सॉफ्टवेयर है और यह आपके पीसी के परफॉर्मेंस को भी बेहतर करता है। सबसे अच्छी बात यह है कि सीसी क्लीनर पूरी तरह से मुक्त है। इसलिए इसे अपने लैपटॉप में जरूर रखें और समय-समय पर रन करते रहें।