×

भारत -पाक के इन युद्ध में पाक को भागना पड़ा उलटे पांव | India and Pakistan War List In Hindi

भारत -पाक के इन युद्ध में पाक को भागना पड़ा उलटे पांव | India and Pakistan War List In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-7 months ago
+

भारत और पाक के बीच का युद्ध इतिहास की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में | India And Pakistan War

दोस्तों आज हम बात करेंगे भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान से भारत के साथ हुए युद्ध के बारे में आज पाकिस्तान अपनी ख़राब नीतियों से पूरी दुनिया में अपनी छवि खराब कर चूका है और एक टेररिस्ट देश बन गया। ऐसा कहा जाता है की आपके दुःख सुख़ में सबसे पहले आपका पड़ोसी ही सबसे पहले आता है लेकिन दोस्तों  ये बात पाकिस्तान जैसे देश पर बिलकुल लागु नहीं होती है। जब से भारत -पाकिस्तान का बंटवारा हुआ है तब से पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। ये बात हम सभी लोग जानते है की 1947 में आजादी से पहले पाकिस्तान भारत का हिस्सा था। साल 1948 में भारत के दो हिस्से हो गए और एक अलग पाकिस्तान बन गया।

लेकिन जब ये बंटवारा हुआ तब पाकिस्तान को कश्मीर अपने हिस्से में लेने की लालसा थी। उस समय कश्मीर की रियासत के राजा हरी सिंह थे। लेकिन पाकिस्तान ने अलग होने के बाद कश्मीर को हासिल करने के लिए अपनी सेना कश्मीर भेज दी। पाक सेना ने कई हिस्सों पर हमले किये और कई हिस्सों को अपने कब्जे में कर लिया इसे देख राजा हरी सिंह ने "इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन" पर हस्ताक्षर कर बाकि कश्मीर को भारत में मिला दिया।

राजा हरिसिंह के इस कदम से नाखुश पाकिस्तान ने कश्मीर को जीतने की अपनी कोशिश और तेज कर दी।पाकिस्तान की हरकतों की वजह से इन दोनों देशो के बीचपहला युद्ध हुआ । हालांकि पाकिस्तान की नापाक हरकतों के कारण आज तक इन दोनों देशो के बीच 3 बार जंग हो चुकी है। तो चलिए दोस्तों इन दोनों देशो की आज तक हुई जंग के बारे में विस्तार से जानते है।

भारत – पाक  पहला युद्ध India Pakistan War 1948

India and Pakistan War

Source encrypted-tbn0.gstatic.com

दोस्तों साल 1948 में भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर के मुद्दे को लेकर पहली लड़ाई हुई। इस का अंत  1 जनवरी 1949 को हुआ । इस युद्ध के बाद भारत का कश्मीर पर दो तिहाई हिस्सा काबिज हो गया और पाकिस्तान को एक तिहाई हिस्से में संतुष्ट होना पड़ा । जो एक तिहाई हिस्सा है आज उसे "POK" कहा जाता है । इस एक तिहाई क्षेत्र में "गिगिट बालूचिस्तान" जैसे इलाके आते है ।

भारत – पाक दूसरा युद्ध 1971 -India Pakistan War 1965

India and Pakistan War

Source www.awaaznation.com

दूसरा युद्ध भी कश्मीर के मुद्दे को लेकर हुआ था। पाकिस्तान ने कश्मीर पर कब्ज़ा करने की मनसा से अपनी सेना के कई सैनिक आम नागरिको के वेश में कश्मीर के अंदर भेजा लेकिन जैसे ही इस चालाकी की भनक भारतीय सेना को लगी तब सेना ने अपना ऑपरेशन शुरू कर दिया और सभी को कश्मीर से खदेड़ दिया।

पाकिस्तान की सेना ने इस इस ऑपरेशन का नाम "जिब्रॉल्टर" (Operation Gibraltar) रखा ये ऑपरेशन पूरी तरह विफल रहा और दूसरी और भारतीय सेना ने पाकिस्तान के लाहौर और सियालकोट को जीत लिया । इस युद्ध को देख कर बड़े देश सकते में आ गए और बाद में सोवियत संघ और अमेरिका के दबाब में आने के बाद इन दोनों देशो को इस युद्ध रोकना पड़ा और इस युद्ध के बाद साल 1966 में दोनों देशो ने समझौते पर हस्ताक्षर किये.

हालांकि दोस्तों उस समय भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री इस समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करना चाहते थे। क्योंकि भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आधे से ज्यादा हिस्से को कब्जे में कर लिया था। लेकिन सोवियत संघ और यूनाइटेड नेशन के अंतिम निर्णय के कारण उन्हें इस समझौते पर हस्ताक्षर करने पड़े दोस्तों सयोंग की बात ये रही की इसके अगले दिन ही उनकी मौत हो गई।  जो आज भी राज बना हुआ है.

भारत – पाकिस्तान तीसरा युद्ध 1971 -India Pak War 1971

India and Pakistan War

साल 1971 में भारत पाकिस्तान के बीच के बार फिर युद्ध हुआ इस बार मुद्दा कश्मीर का नहीं था बल्कि पश्चिमी पाकिस्तान को लेकर हुआ था। इस युद्ध के होने का प्रमुख कारण पश्चिमी पाकिस्तान के लोग थे पूरा पश्चिमी पाकिस्तान पाकिस्तान की नीतियों से दुखी था और वो पाक से अलग होना चाहता था। और उनकी आजादी में भारत ने उनका साथ दिया । और साल 1971 में  पाकिस्तान से पश्चिमी पाकिस्तान जीतकर एक नए देश देश का निर्माण किया जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है.

कारगिल युद्ध 1999 -India Pakistan War 1999 -Kargil Yudh

India and Pakistan War

image source

साल 1999 में भारत पाकिस्तान के युद्ध को "कारगिल युद्ध " Kargil Yudh" भी कहा जाता है। इस युद्ध को कारगिल का युद्ध इस लिए कहा जाता है की ये युद्ध कारगिल नाम की जगह पर लड़ा गया था। ये स्थान भारत के हिस्से में  है लेकिन पाकिस्तान ने इस पर कब्ज़ा करने की मनसा से यहां हमला किया था । इस हमले का भारतीय सेना ने मुँह तोड़ जबाब दिया और इस युद्ध में जीत हासिल की इस युद्ध में पाकिस्तान की सेना को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा और उलटे पांव वापिस पाकिस्तान लौटना पड़ा

दोस्तों कई रक्षा विशेषज्ञों का मानना है की यदि आने वाले समय में इन दोनों देशो के बीच युद्ध होता है तो ये दो देश तो ख़त्म होंगे ही साथ ही पूरी दुनिया खत्म हो जाएंगी। दोस्तों आज इन दोनों देशो के पास भारी मात्रा में परमाणु बम है। जो पुरे विश्व के विनाश के लिए काफी है.