×

इस तरह कर रहे है आईपीएल में सटोरिये सट्टेबाजी, अब तक हुआ है बुकीज को भारी नुकसान...

इस तरह कर रहे है आईपीएल में सटोरिये सट्टेबाजी, अब तक हुआ है बुकीज को भारी नुकसान...

In : Sport By storytimes About :-1 year ago
+

आईपीएल टूर्नमेंट का पिछला एक सप्ताह सटोरियों((Bookies)) को खासा भारी पड़ गया। विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि पिछले 20 अप्रैल से सटोरिए (बुकीज) करोड़ों रुपये पंटरों से हार चुके हैं। आईपीएल 7 अप्रैल से शुरू हुआ था। यह 27 मई तक चलेगा। शुरुआत के 12 से 13 दिन सटोरियों ने जमकर कमाई की, लेकिन बाद में रिजल्ट उनकी उम्मीद से बिल्कुल उलट(opposite) आने लगे, इसलिए उनकी तिजोरी अब धीरे-धीरे खाली होने लगी है।

छोटे सटोरियों ने रोक दिया सट्टा बाजार -

via

एक सूत्र ने दावा किया कि जो छोटे बुकीज हैं, जो एक लाख रुपये से ऊपर का भाव लेते नहीं हैं, उन्होंने फिलहाल सट्टे के खेल को रोक दिया है। जो बड़े-बड़े सटोरिए(Bookies) हें, जो आर्थिक रूप से बहुत संपन्न हैं, वे अभी भी हारी बाजी जीतने की उम्मीद रखे हुए हैं । वे अपना खेल जारी रखे हुए हैं। आईपीएल में प्राय: शनिवार और रविवार को दो मैच हो रहे हैं। सप्ताह के अन्य पांच दिनों में रोज एक-एक ही मैच होता है। सटोरियों और पंटरों में कौन कितना हारा या कितना जीता, यह मैच(match) खत्म होने के पांच मिनट के अंदर पता चल जाता है, क्योंकि सट्टेबाजी(Betting) अब पूरी तरह डिजिटल हो गई है। 

हर सोमवार के दिन होता है बुकीज का लेनदेन-

via

हालांकि हारा या जीता व्यक्ति उसी दिन पेमेंट नहीं करता। पेमेंट(Payment) के लिए सोमवार का दिन निर्धारित किया गया है। सटोरियों ने इसके लिए अपने यहां कर्मचारी रखे हुए हैं। यदि सटोरी हार गया, तो उसका आदमी पेमेंट देने पंटर के पास जाएगा। यदि वह जीत गया, तो भी उसका ही आदमी पेमेंट लेने जाएगा। पंटरों को हारने पर शत प्रतिशत रकम सटोरियों(Bookies) के आदमियों को देनी पड़ती है, लेकिन यदि बुकी हार गया, तो वह दो प्रतिशत कमिशन काटकर पंटर के पास रकम भिजवाता है। सारा लेन - देन कैश होता है। चेक या ऑनलाइन पेमेंट से कभी भी ट्रांजैक्शन नहीं होता।