×

अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट में पहली महिला मैच रेफरी बनी लक्ष्मी |First Woman Match Referee In Hindi

अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट में पहली महिला मैच रेफरी बनी लक्ष्मी |First Woman Match Referee In Hindi

In : Sport By storytimes About :-2 months ago
+

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में आज अंपायर की भूमिका अहम मानी जाती है। हम वर्ल्ड क्रिकेट में बेहतरीन अंपायरों की बात करे तो श्रीलंका के कुमार धर्मसेना, पाकिस्तान के अलीम डार व न्यूजीलैंड के क्रिकेट अंपायर बिली बोडेन की अंपायरिग हम कैसे भूल सकते है। लेकिन दोस्तो आज पुरुष अंपायर की बात नही करने वाले है हम बात कर रहें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली महिला मैच रेफरी बनने जा रही भारत की पूर्व क्रिकेटर जी.एस लक्ष्मी की। बता दे की जी.एस लक्ष्मी 8 दिसंबर से शुरु होने वाले  " ICC Men's Cricket World Cup League 2 " के सीजन 3 के पहले जो शारजाह के स्टेडियम में यूएई-अमरीका के बीच मैच में पहली बार महिला मैच रेफरी रुप में शामिल होने वाली है।

आईसीसी द्वारा आयोजित " ICC Men's Cricket World Cup League 2 " इसी साल 2 अगस्त से आयोजित हुआ था। जो वर्ष 2022 जनवरी तक चलेगा। दुनिया की कई क्रिकेट टीम इसमें हिस्सा ले रही है। प्रतियोगिता में कुल 126 खेले जाएगें। इस प्रतियोगिता में शीर्ष 3 स्थान पर काबिज रहने वाली टीमें साल 2022 में आयोजित होने वाले " ICC पुरुष क्रिकेट वर्ल्ड कप क्वालिफायर"  का हिस्सा बनेगी। टीमों के इस प्रतियोगिता में परफोमेंस के बाद उनका चयन साल 2023 में भारत में खेले जाने वाले वर्ल्ड कप टी-20 में होगा।

Source www.thehindu.com

जी. एस लक्ष्मी ने " ICC इंटरनेशनल पैनल ऑफ मैच रेफरी "  में चयन होने के बाद अपने यह दुसरा रिकॉर्ड दर्ज करा लिया है। इससे पहले साल 2008 में जी.एस लक्ष्मी में घरेलू महिला क्रिकेट पहली महिला मैच रेफरी का रिकॉर्ड अपने नाम किया था।

जी.एस लक्ष्मी ने अपने रेफरी अंपायर के करियर में अब तक वो 3 महिला क्रिकेट वनडे मैच ,7 टी-20 मैच वही पुरुष इंटरनेशनल क्रिकेट में 16 टी-20 मैचो में मैच रेफरी की भूमिका निभा चुकी है।

Source timesofindia.indiatimes.com

अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट में इस जिम्मेदारी भरे पद प्राप्ति के बाद जी.एस लक्ष्मी कहती है की - भारतीय क्रिकेट व इसके साथ एक मैच रेफरी की भूमिका में मेरा करियर काफी लंबा रहा है। अपने क्रिकेट करियर व मैच रेफरी में अपने अनुभव के साथ इस जिम्मेदारी को अच्छे से निभाउगी। अपने करियर से मिले अनुभव से आयोजित मैचों में पूरी क्षमता के साथ उपयोग करुगी। मैचो के दौरान मेरी पूरी कोशिश रहेगी की मै अपनी जिम्मेदारी को अच्छे से निभाऊ।

जी.एस लक्ष्मी की पूरी जानकारी

अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट में पहली महिला मैच रेफरी बनी लक्ष्मी का जन्म आंध्र प्रदेश में हुआ था। लक्ष्मी का पालन पोषण बिहार के जमशेदपुर में हुआ क्योंकि उनके पिता जमशेदपुर में नौकरी करते थे। अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत रेलवे टीम से लक्ष्मी ने एक तेज गेंदबाज के रुप में की । साल 1999 में इंग्लैड के साथ खेले मैचों का हिस्सा रही। लेकिन लक्ष्मी को देश के लिए अंतरराष्ट्रीय मैचों में खेलने का अवसर नही मिल पाया। लक्ष्मी में साल 2004 में क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया था।

Source www.teluguwishesh.com

क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद जी. एस लक्ष्मी ने 10 साल तक साउथ सेंट्रल रेलवे के कोच पद पर भी रही। साल 2008 में उन्हें आईसीसी ने महिला क्रिकेट में मैच रेफरी का अवसर दिया। यही वो प्रथम अवसर था जहां से लक्ष्मी ने मैच रेफरी के करियर की शुरुआत की।

Read More - आखिर क्यों ये तीन बड़े टूर्नामेंट 4 साल बाद ही आयोजित किये जाते है