×

कहानी अनपढ़ किसान की जो मशीन बना कर कमा रहा सालाना 2 करोड़ | Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi

कहानी अनपढ़ किसान की जो मशीन बना कर कमा रहा सालाना 2 करोड़ | Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-11 months ago
+

बचपन से हम सभी ने बड़ो से एक ही बात सुनी की बेटा पढ़-लिख लो जीवन में सफल होना है तो, माना पढ़ना -लिखना जरुरी है। लेकिन ऐसा भी नही है की केवल पढ़-लिखकर ही इंसान जीवन आगे बढ पाता है। जीवन में सफल होने के लिए डिग्रियों की जरुरत नही है जरुरत है तो बस अपने लक्ष्य को पाने की चाह। आज हम एक ऐसी शख्सियत की बात करने वाले है जिन्होंने इस बात को साबित भी कर दिखाया. हम बात कर रहे है राजस्थान के जोधपुर जिले के एक छोटे से गांव रामपुर - मथानियां के रहने वाले 11 वीं पास अरविंद सांखला की। अरविंद एक किसान है और अपनी खेती को  नया रुप देने के लिए 5 ऐसी मशीनों का निमार्ण किया जिनसे न सिर्फ उनको फायदा हुआ बल्कि उनके गांव में खेती से जुड़े बाकी किसानो को भी इससे फायदा हुआ। दोस्तो बता दे की 11वीं पास अरविंद सांखला आज अपनी इन्हीं मशीनों के दम पर हर साल 2 करोड़ की कमाई करते है।

गाजर की सफाई में होती थी दिक्कत

Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi

image source

एक रिपोर्ट के अनुसार अरविंद सांखला के गांव में शुरुआत से सभी किसानो द्वारा मिर्ची की पैदावार सबसे ज्यादा की जाती थी व मथानिया गांव की मिर्च जोधपुर जिले के दूर-दूर तक के गांवो तक लोगो द्वारा पंसद की जाती थी। लेकिन मिर्च की फसल में मोनोक्रॉपिंग लगने की वजह से मिर्च की खेती में रोग लग जाता था। तब अरविंद व उनके गांव के बाकी किसानो ने मिर्च की खेती न करते हुए गाजर की खेती  करने के बारे में विचार किया। यह फैसला सही साबित हुआ और गांव में गाजर की अच्छी पैदावार होने लगी। गाजर की गांव मे पैदावार तो अच्छी होने लगी लेकिन अरविंद सांखला से लेकर सभी किसानो के लिए गाजर की जड़ो की महिन रोम को साफ करने की सबसे बड़ी समस्या पैदा हो गई इस वजह से उन्हें मार्केट में गाजर के सही दाम भी नही मिल पा रहा था।

1992 में बनाई पहली मशीन

Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi

Source navbharattimes.indiatimes.com

अरविंद सांखला ने गाजर की खेती की इस समस्या से निजात पाने के लिए साल 1992 ऐसी मशीन बनाने के बारे में विचार किया जो इस समस्या से सभी किसानो को बाहर निकाल सकें। बस अपने इसी उद्देश्य के साथ अरविंद ने एक मशीन को निर्माण कर दिया। जब बाकी किसानों ने अरविंद की इस मशीन को देखा तो सभी को मशीन काफी पसंद आयी बस दोस्तो इसी मोड़ से 11 वीं पास अरविंद की जिंदगी पुरी तरह बदल गई। गाजर की मशीन की सफलता के बाद अरविंद ने अलग-अलग तरह की 5 अन्य मशीनो का निमार्ण किया। किसानो की बढ़ती मांग के चलते उनके पास मशीनों के लगातार आर्डर आने लगे। अरविंद आज इन्हीं मशीनो का निमार्ण कर हर वर्ष 2 करोड़ रुपयों तक की कमाई करते है।

15 मिनट में 2 क्लिंटल की गाजर की सफाई

टैंक के आकार में बनी अरविंद सांखला के द्वारा बनाई गई यह मशीन एक बार में करीब 2 क्विंटल गाजर की सफाई करती है। 2 क्लिंटल गाजर की सफाई करने में मशीन को एक बार में 15 मिनट का समय लगता है यानी 1 घंटे में करीब 8 क्विंटल तक गाजर की सफाई कर देती है। अपनी इस मशीन के बारे में बात करते हुए अरविंद सांखला ने बताया की  गाजर की सफाई के लिए 2 तरह की मशीनो का निमार्ण किया एक मशीन को कही भी लाया व ले जाया सकता वही दुसरी मशीन एक ही स्थान पर फिक्स हो कर काम करती है।

कृषि विभाग से मिलती है 40 प्रतिशत छूट

Jodhpur Farmer Arvind Story in HindiSource navbharattimes.indiatimes.com

अरविंद सांखला द्वारा बनाई गई मशीन से गाजर की बाहर निकली जड़े साफ होने के साथ अच्छी तरह धुल जाती थी। मशीन से सफाई  के बाद गाजर को मार्केट में अच्छे दाम मिलने लगे। जहां हम मेक इन अरविंद सांखला के द्वारा बनाई गई मशीनो की कीमत की बात करे तो जो मशीन मूवेबल​​​​​​​ है उसकी कीमत 63,500 व बिना मूवेबल मशीन की कीमत 40,500 रुपये है। आपको बता दे की किसानो को मशीन खरीदने में आसानी हो इसके लिए सरकार इन मशीनों पर 40 प्रतिशत अनुदान भी देती है।

लहसुन​​​​​​​ व पुदीने की खेती के लिए भी बनाई मशीन

Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi

Source navbharattimes.indiatimes.com

गाजर की मशीन के सफल होने के बाद अरविंद ने लहसुन व पुदीने की खेती की भी मशीन तैयार की। जहां लहसुन​​​​​​​ की खेती की बात करे तो एक किसान दिन भर में काम कर 100 से 200 के बीच ही लहसुन की क्यारियां निकाल पाता है वही मशीन दिन भर में 100 क्यारियां के लहसुन निकाल देती है। वही पुदिने की मशीन पुदीने  के पत्ते व डंठल की छठनी करती है। बता दे की पुदीने की इस मशीन से हर एक घंटे में मैथी व धनिया की 30 किलो की 30 बोरियां तैयार होती है।

एक 11वीं पास किसान अरविंद की इस सफलता से हम सभी को सीख मिलती है की शिक्षा जीवन का जरुरी हिस्सा है पर ऐसा नही है की आप बिना शिक्षा के दुनिया में कुछ नही कर सकते बस आपमें कुछ करने की लगन होनी जरुरी है।

Read More - सीकर की संतोष देवी जैविक खेती से कमा रही है 15 लाख माह 

कहानी अनपढ़ किसान की जो मशीन बना कर कमा रहा सालाना 2 करोड़ | Jodhpur Farmer Arvind Story in Hindi