भारत की वो जगह, जहां आज भी चलती है बिट्रिश हुकूमत | Kohima War Cemetery Story In Hindi

भारत की वो जगह, जहां आज भी चलती है बिट्रिश हुकूमत | Kohima War Cemetery Story In Hindi

In : News By storytimes About :-3 years ago
+

यदि दोस्तो आज हम आप से कहें की 72 साल के आजाद भारत में आज भी एक ऐसी जगह है, जहां कुछ भी करने के लिए भारत सरकार या हमें पहले ब्रिटिश सरकार अनुमति लेनी पड़ती है। अब आपका इस सवाल पर क्या जबाब है ?

जी दोस्तो यह बिलकुल सही है भारत देश में आज ऐसी जगह मौजूद है जहां हम अपनी मर्जी से एक फोटो भी नही ले सकते साथ ही यदि आप इस जगह किसी अपने की याद में पौधा भी लगा रहे है तो इसके लिए पहले ब्रिटिश सरकार की अनुमति लेनी होगी।

आज इस जगह पर भारत सरकार का कोई भी कानून लागू नही होता है यानी की आप यदि एक भारतीय भी हो तो भारत की इस धरती पर बिना अनुमति व मन मर्जी से कुछ नही कर सकते। यदि कुछ करना है तो ब्रिटिश सरकार के पास इसके लिए आवेदन करो यदि उनकी अनुमति मिलती है ठीक नही तो इंतजार करने के अलावा आपके पास दूसरा ऑप्शन नहीं है

कहां है यह अजीब जगह

Kohima War Cemetery Story In HindiSource media-cdn.tripadvisor.com

दोस्तो जिस अजीब जगह की बात कर रहें है वो जगह भारत के नागालैंड राज्य की राजधानी कोहिमा में स्थित है। कोहिमा में मौजूद इस जगह पर आज भी ब्रिटिश शासन का कानून चलता है। इस जगह का नाम है Kohima War Cemetery.

दरअसल इस जगह से जुड़ी पूरी कहानी इस तरह है की, जब साल 1944 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान की सेना ने ब्रिटिश सेना पर हमला कर दिया । इस हमले में जापान की आर्मी ने बर्मा से होते हुए मिजोरम व फिर कोहिमा व इम्फाल पर हमला कर दिया था। हमले के साथ जापान की आर्मी ने “ गैरीसन हिल ” को अपने कब्जे लेने की योजना तैयार की , लेकिन जापान की आर्मी अपने इस मसूबे में कामयाब नही हो पाई और ब्रिटिश आर्मी ने दम दिखाते हुए उन्हें वहां से भगा दिया।

Kohima War Cemetery Story In Hindi

Source encrypted-tbn0.gstatic.com

दोनो आर्मी की बीच छिड़े इस भंयकर युद्ध में कुल 1420 सैनिक शहीद हो गए। शहीद होने वाले शहीदों में 1082 ब्रिटिश व 330 भारतीय सैनिक व 5 कनाडाई सैनिको के साथ 3 ऑस्ट्रेलियन सैनिक भी शामिल थे। युद्ध में शहीद सभी को “ गैरीसन हिल ” पर ही दफना दिया गया। ब्रिटिश सरकार ने शहीद सैनिको की याद में यहां बाद में स्मारक बना दिए। बस तब से इस जगह पर ब्रिटिश हुकूमत का आदेश चलता है।

ब्रिटेश की हुकूमत व नेशनल म्यूजियम ने अपने शहीद सैनिको की शहादत को अमर रखने के लिए साल 2013 में “ बैटल ऑफ कोहिमा-इंफाल ” का दर्जा दिया। आज कोहिमा में स्थित इस कब्रो की देखभाल “ कॉमनवेल्थ वॉर ग्रेव्स कमीशन ” कर रहा है। यदि आप इस जगह पर जा रहें तब आपको यहां फोटो लेने के लिए इसकी अनुमति ब्रिटिश सरकार से लेनी होगी।

Kohima War Cemetery Story In HindiSource encrypted-tbn0.gstatic.com

बीतें साल इन कब्रगाहो के पास ही एक सड़क को चौड़ा करने के लिए अनुमति मांगी गई थी लेकिन ब्रिटिश सरकार ने इसके लिए मना कर दिया था। यदि कोई भारतीय आज यहां अपने किसी परिचित सैनिक के स्मारक की सफाई व उसके बदलाव के लिए यहां आता है तो पहले उसे इसकी अनुमति ब्रिटिश सरकार से लेनी होती है।

कोहिमा में शहीद सैनिको के स्मारक के अलावा भी बताया जाता है भारत में ऐसी 330 जगह है जहां आज भी ब्रिटिश शासन चलता है।

Read More - मराठा सरदार तानाजी मालुसरे का सम्पूर्ण जीवन परिचय

भारत की वो जगह, जहां आज भी चलती है बिट्रिश हुकूमत | Kohima War Cemetery Story In Hindi