×

मानवता की प्रेरणा बने इस कपल की कहानी है कुछ अलग | Mumbai Couple Stall Kandivali Station In Hindi

मानवता की प्रेरणा बने इस कपल की कहानी है कुछ अलग | Mumbai Couple Stall Kandivali Station In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-5 months ago
+

भारतीय परिवार के संस्कारों में हर माता-पिता अपने बच्चों को शिक्षा दी जाती है की हमेशा अपने से बड़ो का सम्मान करना व मुश्किल समय में किसी का साथ देना इंसान का प्रथम धर्म है । दोस्तो आज की इस कहानी में यह दोनो बाते फिट बैठती है मुंबई के कांदिवली स्टेशन पर हर रोज सुबह 4 बजे ठेला लगाने वाले कंपल पर। इन दोनो की कहानी थोड़ी अलग है यह सुबह 4 बजे उठकर यहां ठेला लगाते है और 10 बजते ही अपने ऑफिस के लिए निकल जाते है। क्यो दोस्तो लगी ना कहानी थोड़ी अलग ठेला ऑफिस, तो जान ले दोस्तो यह कपल यह ठेला इसलिए लगाते है की इससे होने वाल कमाई से उनके घर में काम कर रही बूढ़ी अम्मा अपना जीवन चल सकें

सोशल मीडिया पर हो रही है तारीफ

Mumbai Couple Stall Kandivali Station In HindiSource media.indiatimes.in

दोस्तो आपको बता दे की कांदिवली स्टेशन पर सुबह 4 बजे उठकर पोहा, उपमा, इडली डोसा की दुकान लगाने वाले इस कपल की फेसबुक पर काफी सरहाना की जा रही है। फेसबुक यूजर इन्हें किसी सुपर हिरो से कम नही आक रहे है। इस कपल की पुरी कहानी को फेसबुक पर शेयर करने वाली है दीपाली भाटिया,  दीपाली ने जब इस कपल अश्विनी शिनॉय व उनके पति अंकुश आगम शाह की कहानी को शेयर किया तब से यूजर उनकी इस कहानी से काफी प्रभावित हुए अब तक इस पोस्ट को 7.8K लाईक व 2.8K  लोग इसे शेयर कर चुकें है।

कैसे मिले अंकुश व अश्विनी

अपने फेसबुक अकाउंट पर दीपाली ने इस कहानी को शेयर करते हुए लिखा की मुंबई की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में आज किसी भी व्यक्ति रुककर 2 मिनट सोचने का भी समय नही है मुंबई की लाईफ स्टाईल को देखे तो यह दोनो किसी सुपरहिरो से कम नही है क्योंकि यह दोनो खुद के लिए नही दुसरो के लिए सोचते है।दीपाली ने आगे अश्विनी व अंकुश से इस मुलाकात के बारे में जिक्र करते हुए लिखा की की उनकी मुलाकात 2 अक्टूबर के दिन हुई इस दिन सुबह उन्हें काफी भूख लगी थी और उस समय वो कांदिवली स्टेशन पर थी।

“ जवाब था दिल छुने वाला ”

Mumbai Couple Stall Kandivali Station In Hindiimage source - Facebook

दीपाली ने इस कहानी के बारे में आगे लिखते हुए बताया की “ स्टेशन पर जब मैने इस कपल को स्टॉल पर देखा तो यह देखने में एक गुजराती कपल लग रहा था। स्टॉल पर खाने के बाद उन दोनो से पुछा की आप दोनो सड़क पर स्टॉल लगाकर खाना क्यों बेचते है उनका जो जबाब था उसने मेरा दिल छु लिया उनके द्वारा किया जाने वाला कार्य मानवता के लिए सबसे बड़ा कार्य था।

नहीं  है कोई दूसरा सहारा

दोस्तो इन दोनो कपल की कहानी को फेसबुक के द्वारा लोगे के सामने लाने वाली दीपाली एक संपन्न परिवार से है। दीपाली को अश्विनी व अंकुश ने स्टेशन पर खाना बेचने की असली वजह बताई वो इस काम से उनके घर खाना बनाने वाली 55 साल की अम्मा की मदद करना चाहते है। उन्होंने बताया की अम्मा के पति पैरालिसिस से पीड़ित है परिवार को चलाने वाला उनके दुसरा कोई सहारा है नही बस इस उम्र में अम्मा को परेशानियों का सामना न करना पड़े इसके चलते वो उनके द्वारा बनाए खाने को यहां स्टॉल लगा कर बेचते है। वो आज उनकी कूंकिग भी स्पोर्ट कर रहे है।

Read More -  महिला की जीवन संघर्ष कहानी जो सिखाती है जीवन जीना