ईमानदारी का अनोखा सबूत दफ्तर में लिखा में ईमानदार अफसर हूं| Officer I am Uncorrupted Bord In Office

ईमानदारी का अनोखा सबूत दफ्तर में लिखा में ईमानदार अफसर हूं| Officer I am Uncorrupted Bord In Office

In : Viral Stories By storytimes About :-4 years ago
+

सरकारी दफ्तर व सरकारी का जहन जब भी हमारे जहन में आता है तब एक ही शब्द मुंह से निकलता है चोर है सब के सब आराम की नौकरी कर सरकारी खजाना खाते है । लेकिन दोस्तो देश में आज ऐसे भी सरकारी ऑफिसर कर्मचारी कार्यरत है जो अपनी पूरी  ईमानदारी से अपने कर्तव्य को निभा रहें है।

दोस्तो आज हम आपके बीच ऐसे ही एक ईमानदार ऑफिसर का जिक्र करने वाले है जिनकी ईमानदारी के चर्चें आज चारो तरफ है हर कोई उनकी इस सोच को सलाम कर रहा है।

क्या है पूरा मामला ?

Officer I am Uncorrupted Bord In OfficeSource encrypted-tbn0.gstatic.com

यह पूरा मामला जुड़ा है तेलंगाना के एक सरकारी दफ्तर से जहां पर करीमनगर के बिजली विभाग के एडिशनल डिवीजनल इंजीनियर के पद पर पोदेती अशोक नाम के ऑफिसर कार्यरत है। दोस्तो हर सामान्य सरकारी दफ्तर की तरह अशोक जी का दफ्तर है लेकिन थोड़ा अलग है इनके ऑफिस में प्रवेश करते ही सामने की तरफ तमिल व अग्रेजी भाषा में बोर्ड लगाकर लिखा गया है की “ आई एम अनकरप्टेड ” यानी की वो मै एक ईमानदार ऑफिसर हूं।

बिजली विभाग में अपने कार्य को जल्द करवाने में हर व्यक्ति व ठेकेदार जल्दीबाजी के चक्कर में अशोक जी के दफ्तर में उन्हें रिश्वत देने आते तब इस हरकत से परेशान हो कर उन्होंने अपने दफ्तर में आने वाले ठेकेदारो के लोगो को समझाया की वो एक ईमानदार ऑफिसर है उन्हें घूस देने की कोशिश न करें। लेकिन फिर भी हालात बदलने के नाम नही ले रहे थें। बस इसी से परेशान हो कर उन्हें यह कदम उठाना पड़ा।

Officer I am Uncorrupted Bord In Office

Source encrypted-tbn0.gstatic.com

अशोक पोदेती की इस कदम के बाद उनके विभाग के बाकी ऑफिसर भड़क गए है। उनका कहना है की अशोक इस तरह की हरकत कर उनके विभाग को बदनाम कर रहें है।

अशोक ने बताया की -   " मै बचपन से भ्रष्ट्राचार के खिलाफ हूं। यदि हम घुस लेगे तो अपने देना भी पड़ेगा। सच बात कहूं तो बिजली विभाग में भ्रष्टाचार भरा पड़ा है मेरा तो यही कहना है जब सरकारी अफसरो को सरकार सैलरी दे रही है आप उन्हें घूस दे कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा न दे। यदि आपका कार्य नही हो पा रहा है तो आप विभाग के उच्च अधिकारीयों या फिर मीडिया के माध्यम से अपनी बात रखें।”

कौन है पोदेती अशोक ?

Officer I am Uncorrupted Bord In OfficeSource encrypted-tbn0.gstatic.com

भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी ईमानदारी का अनोखा सबूत देने वाले 37 साल के पोदेती अशोक ने साल 2005 में असिस्टेंट इंजीनियर के रुप में बिजली विभाग में नौकरी की शुरुआत की। पदोउन्नती के बाद वो पिछले 3 साल से एडीई के पर पर है। इस पद पद आसित होने के बाद उनके ठेकेदार व कई लोग काम के बदले रिश्वत का ऑफर लेकर आएं। लेकिन उन्होंने कभी इसे स्वीकार नही किया।

Read More - गरीबी से संघर्ष कर किसान का बेटा बना आईपीएस अधिकारी

ईमानदारी का अनोखा सबूत दफ्तर में लिखा में ईमानदार अफसर हूं| Officer I am Uncorrupted Bord In Office