×

मोबाइल पेमेंट Paytm की शुरुआत और सफलता की पूरी कहानी | Paytm Success Story In Hindi

मोबाइल पेमेंट Paytm की शुरुआत और सफलता की पूरी कहानी | Paytm Success Story In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-6 months ago
+

नमस्कार दोस्तों हमने अपने जीवन में देखा है की कई लोग हिंदी माध्यम से पढ़ाई पूर्ण करने के बाद जब अपने भविष्य में कही अंग्रेजी भाषा की जरुरत पड़ जाती है तब वो अपनी किस्मत को दोष देते और सोचते है खास हम भी अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई कर लेते तो आज असफलता का मुँह नहीं देखना पड़ना लेकिन दोस्तों जिन लोगो में कुछ करने का जूनून हो और अपनी मंजिल को पाने का जज्बा हो तो वो कभी अपनी अज्ञानता को दोष नहीं देते दोस्तों आज हम ऐसी ही एक शख्सियत की बात करने वाले है जिन्होंने अपनी शिक्षा हिंदी माध्यम से ही पूर्ण की लेकिन आज उनके नाम और उनके काम को पूरी दुनिया जानती है.

दोस्तों हम बात है कर रहे है Paytm के फाउंडर विजय शेखर शर्मा की अपनी शुरुआती शिक्षा हिंदी माध्यम से पूर्ण करने के बाद विजय दिल्ली में इंजीनियर की पढ़ाई करने के लिए चले गए विजय शेखर ने जब दिल्ली में इंजनियरिंग की पढ़ाई की शुरुआत की तब वो अपनी शुरुआती शिक्षा की तरह अपनी क्लास की पहली बेंच पर बैठ गए और तब क्लास में टीचर ने उन्हें इंग्लिश में एक सवाल पूछ लिया विजय के ये सवाल सिर से निकल गया और उन्हें कुछ समझ नहीं आया तब उन्हें क्लास के बाकि स्टूडेंट के सामने काफी शर्मिंदगी महसूस हुई और तब वो अपनी क्लास की अंतिम बेंच पर बैठने लग गए कहते है की जब जीवन में मुश्किल समय आये तब उसका डटकर सामना करना चाहिए न की अपने लक्ष्य को छोड़ कर भाग जाना चाहिए और ऐसा ही किया विजय शेखर ने उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग क्लास से समय निकाल लाइब्रेरी में जाने लगे और वहां उन्होंने दुनिया कई महान शख्सियतों के जीवन से जुडी सफलता के बारे में पढ़ा लाइब्रेरी में पढ़ाई के दौरान उनकी इंग्लिश काफी अच्छी हो गई और तब उनकी सोच में काफी बदलाव आया

Paytm Success Story In Hindi

image source

और तब विजय शेखर ने कुछ अलग करने की ठानी और कंप्यूटर लेब में जा कर विजय ने कोडिंग की अच्छी जानकारी प्राप्त की  विजय ने अपने इस हुनर का इस्तेमाल साल 1997 में किया जब उन्होंने अपने एक साथी हरेंद्र के साथ मिलकर एक ऑनलाइन वेबसाइट indiasite.net की डिजायनिंग की इसके बाद उन दोनों ने मिलकर कई वेबसाइटों को डिज़ाइन किया इस दौरान साल 1999 में उनके द्वारा बनाई गई वेबसाइट indiasite.net को एक अमेरिकी कंपनी ने करीब 1 मिलियन डॉलर में खरीद लिया

अपनी वेबसाइट से अच्छा पैसा मिलने के बाद विजय ने अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर साउथ टेली में सभी की हिस्सेदारी के साथ एक कंपनी खोली और उसका नाम रखा 197 कंपनी रखा इस वेबसाइट को स्पेशल मोबाइल यूजर के लिए तैयार किया गया था ये मोबाइल यूजर को न्यूज़ , SMS ,जोक्स , जैसी सेवाएं प्रदान करता था लेकिन इस वेबसाइट पर काले बदल तब छा गए जब साल 2001 में अमेरिका में 9/11 का अटेक हुआ इससे  विजय की इस कंपनी का बिजनेस पूरी तरह ठप हो गया साथ ही कंपनी का पूरा फंड पूरा खत्म हो गया तब कंपनी को डूबती हुई देख विजय के कई कंपनी पार्टनर कंपनी को छोड़ कर भाग गए विजय की कंपनी 197 की करीब दो सालो तक यही हालत रही अपने जीवन के सबसे बुरे दौर में विजय ने हार नहीं मानी और अपनी इस कंपनी को फिर से खड़ा करने के लिए कई कंपनियों में जॉब की और अपनी कंपनी के कर्मचारियों की सैलरी जुटाने के लिए उन्होंने अपने रिश्तेदारों और कई बैंक से 24 % की दर से पैसे लिए साल 2004 में विजय की कंपनी पूरी तरह कंगाल होने की कगार पर थी लेकिन उस समय उनको साथ मिला पियूष अग्रवाल का जिन्होंने विजय की इस कंपनी में करीब 8 लाख रूपये इनवेस्टमेंट किये और कंपनी में 40% शेयरों की हिस्सेदारी ली विजय की कंपनी को  अच्छा फंड मिलने के बाद उनकी ये कंपनी एक बार फिर सफलता की पटरी पर चढ़ने लगी

Paytm Success Story In Hindi

Source images.livemint.com

कंपनी में काम करते हुए विजय के दिमाग में एक विचार आया की आज मार्केट में स्मार्ट फोन काफी तेजी से बढ़ रहे और क्यों न लोगो के लिए इससे ही जुड़ा कुछ ऐसा किया जाये जो लोगो को अच्छी सेवा प्रदान कर सकें और अपने इसी विचार के साथ विजय ने 197 कम्युनिकेशन के साथ Paytm नाम की वेबसाइट लॉन्च की और इससे मोबाइल यूजर को ऑनलाइन मोबाइल रिचार्ज करने की सेवा प्रदान की तब मार्केट में ऐसी कई कंपनिया में चल रही थी जो स्मार्ट फोन यूजर को मोबाइल रिचार्ज करने की सेवा देती थी लेकिन बाकि कंपनियों की तुलना में Paytm का रिचार्ज काफी सरल और सुविधाजनक था और इसी काबिलियत की वजह से उनके बिजनेस का विस्तार हुआ और विजय ने आगे चलकर यूजर के लिए Paytm में ऑनलाइन वॉलेट के साथ ऑनलाइन मनी ट्रांसफर साथ ही इसमें ऑनलाइन शॉपिंग का भी ऑप्सन जोड़ दिया दोस्तों अपने बुरे समय में सभी परिस्थितियों का डटकर सामना करने का आज विजय को फल मिला है

Paytm Success Story In Hindi

Source www.hindustantimes.com

दोस्तों आज Paytm भारत का सबसे बड़ा मोबाइल पेमेंट और ई-कॉमर्स प्लेटफार्म बन चूका है दोस्तों आज Paytm सफलता के उस मोड़ पर है जहां किसी भी अन्य मोबाइल पैमेंट कंपनी का पहुंच पाना मुश्किल  है  दोस्तों आज Paytm के फाउंडर विजय शेखर की इस प्रेरणादायक स्टोरी को पढ़ कर सभी को एक सीख जरूर मिली है की जीवन में दुसरो की सलाह के बजाय खुद के हुनर को पहचानो तब आप 1 दिन जरूर सफल होंगे.

Read More - भारत का पहला डिजिटल गांव जहां सभी कार्य होते है कैशलेस