×

देश के लिए 4 स्वर्ण पदक जीतने वाली - पीयू चित्रा | P.U Chitra Story In Hindi

देश के लिए 4 स्वर्ण पदक जीतने वाली - पीयू चित्रा | P.U Chitra Story In Hindi

In : Sport By storytimes About :-3 months ago
+

आज हमारे देश की बेटियां अपने हौसलों के दम पर बहुत आगे बढ़ रही है आज हम हिंदुस्तान की उस एथलीट के बारे में चर्चा करने वाले है जिन्होंने देश के लिए अंतराष्ट्रीय स्तर पर चार स्वर्ण पदक अपने नाम किए है। बता दें कि खेतों में दौड़ने वाली इस देश की बेटी पीयू चित्रा के लिए अंतराष्ट्रीय दौड़ में सफलता हासिल करने का यह सफर बहुत मुश्किल था। 

 P.U Chitra Story In Hindi

Source a.espncdn.com

देश के लिए चार स्वर्ण पदक जीतने वाली देश की बेटी पीयू चित्रा का जन्म 9 जून 1995 में केरल राज्य के पलक्क्ड़ गांव में रहने वाले एक गरीब परिवार में हुआ था। पीयू के घर में पैसे कमाने का एकमात्र ज़रिया मजदूरी करना था। लेकिन पीयू चित्रा के पिता उन्नीकृष्णन और माता वसंत कुमारी ने वह सबकुछ किया, जो वो कर सकते थे। ऐसी परिस्थितियों में पीयू चित्रा ने अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए मुश्किलों से भरा सफर तय किया। पीयू चित्रा अपने मंजिल तक पहुंचने के लिए और अनेक मुसीबतों से लड़ने के लिए वह हर कोशिश की, जो वो कर सकती थी।

 P.U Chitra Story In Hindi

image source 

पीयू चित्रा को जीवन में ऐसे भी हालातों से गुजरना पड़ा, जब उसके परिवार के किसी भी सदस्य के पास कोई रोजगार उपलब्ध नहीं था। अपने इस विपरीत समय में पीयू अपने खेल को जारी रखते हुए घर में बचे - खुचे खाने से गुजारा किया। ऐसा भी समय था जब पीयू कभी - कभी तो भूखे पेट भी सोई, लेकिन फिर भी पीयू चित्रा रोजाना सुबह 5.45 पर उठकर स्कूल जाना और शारीरिक शिक्षा में सबसे आगे रहती थी।

 P.U Chitra Story In Hindi

Source spiderimg.amarujala.com

जीवन में अनेक विपरीत परिस्थितियों से मुकाबला करने से लेकर, देश के लिए स्वर्ण पदक जीतने तक पीयू चित्रा की यात्रा मुश्किल रही थी। देश के लिए चार स्वर्ण पदक जीतने वाली पीयू चित्रा का यह संघर्ष आज हर एक युवा के लिए एक प्रेरणादायक बन चूका हैं।

 P.U Chitra Story In Hindi

Source www.mykhel.com

पीयू ने अपने परिवार की किस्मत बदलने का निर्णय लिया था। उनकी मुसीबत ही उनकी प्रेरणा थी। लेकिन ऐसी परिस्थितियों से लड़ना आसान नहीं होता। फिर भी पीयू चित्रा ने अपने हौसलों के दम पर सारी मुश्किलों को मात देतें हुए खुद को साबित कर दिखाया।

Source images.news18.com

साल 2016 में आयोजित दक्षिण एशियाई प्रतियोगिता में पीयू चित्रा ने 1500 मीटर की दौड़ में भाग लेकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। पीयू चित्रा ने साल 2017 में एशियन्स गेम्स में दो मेडल अपने नाम किए। अपने सफलता के इस सफर को जारी रखते हुए साल 2018 में हुए एशियन्स गेम्स में कांस्य पदक अपने नाम किया। हाल ही में पीयू चित्रा ने आयोजित साल 2019 के दोहा एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर दुनिया को यह संदेश दिया की मेहनत के दम पर किसी भी मंजिल को हासिल किया जा सकता हैं।

Read More - 6 गोल्ड मेडलिस्ट भारत की पहली महिला बॉक्सर मैरी कॉम