×

रक्षाबंधन से जुडी पौराणिक कथाएं | Raksha Bandhan Stories in Hindi

रक्षाबंधन से जुडी पौराणिक कथाएं | Raksha Bandhan Stories in Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

भगवान श्री कृष्ण से ले कर हुमायूँ  ने रखी है रक्षा सूत्र की लाज

रक्षाबंधन का त्यौहार भाई- बहन के प्यार के लिए एक नई सौगात लेकर आता है इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा का धागा(Thread) बांध कर उसकी लंबी उम्र की दुआ(Pray) मांगती है ये त्यौहार श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है । नेपाल में रक्षाबंधन को जनाई पूर्णिमा कहा जाता है. सभी भारतीय त्यौहारों की तरह, राखी के त्योहार से भी कई कहानियां जुडी हैं तो आईये जानते है-

कृष्ण और द्रौपदी

Stories related to Raksha Bandhanvia : asitis.com

महाभारत की एक कथा के अनुसार भगवान कृष्ण ने शिशुपाल का वध(Slaughter) करने के लिए जब सुदर्शन चक्र का इस्तेमाल किया तब उनकी तर्जनी(index finger) ऊँगली में चोट लग गई . तब द्रौपदी ने अपनी साड़ी के एक हिस्से को फाड़ कर कृष्ण की उंगली के चारों ओर बांध दिया जिससे रक्तस्राव(Bleeding) रुक गया । इसके बदले, कृष्ण ने संकट के समय द्रौपदी को बचाने का वादा किया।

यम और यमुना

Stories related to Raksha Bandhanvia:himachalabhiabhi.com

मृत्यु के देवता यम ने अपनी बहन को कई सालो से नही देखा था यमुना इस कारण काफी दुखी थी और उसने गंगा से इस बारे में बात की फिर गंगा ने यम देवता को उनकी बहन की याद(remember) दिलाई उसके बाद यम देवता अपनी बहन से मिलने के लिए बेचैन हो गये और वो अपनी बहन यमुना से मिलने चले गये यमुना अपने भाई को देखकर बहुत खुश(Happy) हुई, और यम के लिए उपहार के रूप में भोजन तैयार किया। भगवान यम प्रसन्न हुए और यमुना से पूछा कि उन्हें क्या उपहार(Gifts) चाहिए । यमुना ने कहा कि वह, उनसे मिलने फिर दुबारा आये. । यह कहानी भारत के कुछ हिस्सों में भाई दूज नामक एक त्योहार(Festival) का आधार है.

अलेक्जेंडर की पत्नी रोक्साना और किंग पोरस

Stories related to Raksha Bandhan

एक कहानी के अनुसार, जब सिकंदर महान ने 326 ईसा पूर्व में भारत पर आक्रमण किया, तब उनकी पत्नी रोक्साना ने पोरस को एक पवित्र धागा भेजा,और उससे कहा कि लड़ाई में वे उनके पति को नुकसान नहीं पहुचाये. परंपरा के अनुसार राजा पोरस ने राखी के प्रति पूर्ण सम्मान दिया । हाइडस्पेश की लड़ाई में, जब पोरस ने अपनी कलाई पर राखी को देखा तब ऊसने खुद को सिकंदर पर हमला(Attack) करने से रोक दिया।

रानी कर्णावती और सम्राट हुमायूं

Stories related to Raksha Bandhan

1535 ईसवी में जब चित्तौड़ के रानी कर्णावती को एहसास हुआ कि वह गुजरात के सुल्तान, बहादुर शाह के आक्रमण से अपने राज्य का बचाव नहीं कर सकती तब उसने सम्राट हुमायूं को एक राखी भेजी. कहानी के अनुसार, हुमायूं चित्तौड़ की रक्षा के लिए अपने सैनिकों के साथ रवाना हो गए आर सुल्तान बहादुर शाह के साथ युद्ध(War) करके उनके राज्य की रक्षा की