Zomato डिलीवरी बॉय की दिलेरी जॉब की चिंता छोड़ बचाई बच्ची की जान | Ravi Dhokare Zomato In Hindi

Zomato डिलीवरी बॉय की दिलेरी जॉब की चिंता छोड़ बचाई बच्ची की जान | Ravi Dhokare Zomato In Hindi

In : Viral Stories By storytimes About :-4 years ago
+

Zomato से जुड़ी वायरल स्टोरीज अक्सर हम लोगो के बीच आती रहती है । कभी पैकेट खोल कर डिलीवरी बॉय का खाने वाला विडियो तो कभी डिलीवरी को लेकर विवाद । खैर इन अलग-अलग विवादो के बीच पुणे में जोमेटो के डिलीवरी  बॉय ने कुछ ऐसा काम किया की उनकी इस हिम्मत के लिए उन्हें सैल्यूट करने का मन करता है 

पुणे के इस डिलीवरी बॉय का नाम है Ravi Dhokare , रवि ने अपनी जॉब की परवाह न करते हुए इंसानियत की ऐसी मिशाल पेश की जिससे हम कुछ सीख सकते है। जब वो डिलीवरी छोड़ एक 7 माह की बच्ची की जान बचाने के लिए आगे आएं।

हर रोज की तरह रवि Zomato की  फूड डिलीवरी के लिए जा रहे थें। इस दौरान उन्होंने देखा की कोई शख्स रास्ते में खड़ा हो कर मदद की गुहार लगा रहा है। रवि के अनुसार उस शख्स ( देवेंद्र ) ने बताया की वो अपने परिवार के साथ नासिक के लिए निकलने वाले थें।

Ravi Dhokare Zomato In Hindiimage soruce

देवेंद्र - 
सुबह जल्दी उठा और नासिक निकलने की तैयारियां करने लगा। बेटी को नाश्ते के रुप में दाल-चावल खिला रहा था की उसने अचानक जो खाया सब ऊगल दिया उसे सांस लेने में समस्या होने लगी। तब मुझे कुछ नही दिखा और मै मदद के लिए बाहर की और दौड़ पड़ा। मोहल्ले में स्थित क्लिनिक पर पर पहुंचा लेकिन वहां डॉक्टर मौजूद नही था। तब घबराते हुए मै सड़क की और भागा तब मुझे परेशान देख रवि ने मुझे देखा।

रवि -  रोज की तरह मैने अपना जोमेटो डिलीवरी एप्प लॉग इन किया। बुकिंग आ चुंकी थी और मै वडगांवशेरी से विमान नगर के लिए पिक अप के लिए जा रहा था।

Ravi Dhokare Zomato In HindiSource encrypted-tbn0.gstatic.com

तब सड़क पर असहाय हो कर मदद मांग रहे व्यक्ति ( देवेंद्र ) को देख मै उनके पास गया और और उन्हें पूछा मै आपकी कुछ मदद कर सकता हूं।

उनकी बात सुन हम तुंरत उस बच्ची को लेकर वहां से 2 किलामीटर की दूरी पर स्थित आस्पताल लेकर गए लेकिन उस समय वहां कोई डॉक्टर उपलब्ध नही था। फिर वहां से निकलकर हम 2 किलोमीटर दूर .इनोरबिट मॉल  जाधव अस्पताल पहुंचे। वहां मौजूद परिचारक ने हमें कोलंबिया एशिया अस्पताल में जाने की सलाह दी। ”

दोस्तो बता दे की रवि ने इस पुरी भागदौड़ के दौरान करीब 4.3 किलोमीटर का सफर महज 10 मिनट में तय कर लिया था। रवि ने देवेंद्र व उनकी बच्ची को पिकअप करने के 20 मिनट बाद ही वो कोलंबिया अस्पताल पहुंच गए थें। उस समय बच्ची की हालत इतनी खराब थी की अस्पताल में जाते ही डॉक्टर ने उसे सीधा इमरजेंसी वार्ड में भेज दिया।

इन सब के बीच मुझे अपनी डिलीवरी में लेट हो गया मैने कस्टमर को लेट होने की वजह बताई उन्होंने कहा ठीक है भाई मुझे कोई दिक्कत नही है ” - रवि

 

Ravi Dhokare Zomato In Hindi

Source encrypted-tbn0.gstatic.com

इस पुरे घटनाक्रम के बाद रवि देवेंद्र से बात कर उनकी बच्ची के स्वास्थय की जानकारी लेते रहते है।

जब वो बच्ची को कोलंबिया अस्पताल पहुंचे तब वहां के आईसीयू डॉ. गणेश बागड़े ने बताया की जब बच्ची को अस्पताल लाया गया तब वो बेहोश थी। जब बच्ची को चावल खिलाया गया तब खांसने की वजह से चावल श्वास नली में फंस गया। इस वजह से दिमाग में ऑक्सिजन की सप्लाई रुक गई। बच्ची को अस्पताल में आते ही वेटिलेटर पर रखा गया और उनका ईलाज शुरु किया गया।

देवेंद्र के अनुसार शनिवार तक बच्ची को अस्पताल से छुटी मिल जाएगी। 

अपनी नौकरी की परवाह न करते हुए रवि के साहस ने लोगो को प्रेरणा दी की हमें हमेशा अपना स्वार्थ नही देखना चाहिए जरुरत के समय किसी की मदद करना हमारा प्रथम कर्तव्य है वही देवेंद्र ने रवि की इस दिलेरी की तारीफ करते हुए कहा की उनका रिश्ता यही नही खत्म होने वाला उनका रिश्ता जीवन भर चलने वाला है।

रवि की इस दिलेरी को देख Zomato ने भी उनकी प्रंशसा की और इस नेक कार्य के लिए उन्हें अपहार भेंट किय।

Read More - Zomato पर इस भाई ने लगाया ऐसा जुगाड़ की जोमैटो ने भी माना जीनियस

ऑनलाइन फ़ूड कंपनी Zomato की सफलता की पूरी कहानी

Zomato डिलीवरी बॉय की दिलेरी जॉब की चिंता छोड़ बचाई बच्ची की जान | Ravi Dhokare Zomato In Hindi