×

खुदाई में मिले 550 सालों से दफन 140 बच्चों के कंकाल | Skeleton Found by Archaeologists of Children

खुदाई में मिले 550 सालों से दफन 140 बच्चों के कंकाल | Skeleton Found by Archaeologists of Children

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

अब जाकर हुआ 550 सालों से दफन राज का पर्दाफाश मिले 140 बच्चों के अवशेष | Archaeologists found the Remains of 140 Children in a 550 Year Old

आज हम आपकों अंधविश्वास के बारे में बताने जा रहें है यह अंधविश्वास भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी फेला हुआ है। आज हम आपकों पेरू के हुजिलों में मिले कुछ कंकालों के बारे में बताने जा रहे है यह कंकाल 140 बच्चों के है जिनकी बलि  दी गई थी। इस बात का पता तब चला जब वहाँ पर पुरात्तव विभाग की खुदाई में मिलें अवशेषों से हुआ |

Archaeologists found the Remains of 140 Children

via

एक रिपोट के अनुसार , पेरू के उतरी तटीय क्षेत्र में 550 वर्ष पहले किसी धार्मिक कृत्य के अधीनता ने इतने बच्चों की एक साथ बलि दी गई थी। इन बच्चों के कंकालो के साथ में 200 लामा जानवरों के भी अवशेष मिले है। पेरू के इस स्थान को ‘हुआन चाकिटो-लास लामास‘ के नाम से जाना जाता है।

Archaeologists found the Remains of 140 Children

via

जिस स्थान पर यह अवशेष मिल है वह जगह यूनेस्कों की वर्ल्ड हेरीटेज साइट चार से 500 मीटर की दूरी पर स्थित है। इस स्थान का पता लगभग 2011 में चला था। जिस जगह यह अवशेष मिले है उसका पता सबसे पहले 2011 में वहा के पुरात्तव विभाग को चला था। यहाँ  पर किसी कारण से खुदाई की जा रही थी और जब वहा पर काम करने वाले लोगे ने यह अवशेष देखे तो उन्होंने वहा के पुरात्तव विभाग को इसकी जानकारी दी। उसके बाद यहाँ  पर गड़े अवशेषों का पता चलते ही देश और दुनिया की  मीडिया में यह सुर्खियों में आ गया। 

Archaeologists found the Remains of 140 Children

via

2011 में की गई खुदाई में यहाँ  पर केवल 42 बच्चों के 76 लामा के अवशेष मिले थे। जबकि 2016 में वहीं पर 140 बच्चों और 200 लामा के अवशेष मिले। इन कंकालों का पता पुरात्तव विभाग ने रेडियोकार्बन तकनीक से लगाया था। 

Archaeologists found the Remains of 140 Children

via

अगर इस बात पर गौर करे तो इन अवशेषों को देखकर लगता है कि बच्चों के दिल निकालने के लिए यह सब किया होगा। मरने वालों बच्चों की उम्र लगभग 5 से 14 साल है अभी इस जगह की जांच नेशनल जियोग्राफिक सोसाइटी कर रही है।