×

महान गणितज्ञ आर्यभट की जीवनी | Great Mathematicians Aryabhatta Biography In Hindi

महान गणितज्ञ आर्यभट की जीवनी | Great Mathematicians Aryabhatta Biography In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

भारत के महान खगोलविद आर्यभट और उनका योगदान | All About  Aryabhatta Biography In Hindi 

आर्यभट्ट, जिसे आर्यभट्ट प्रथम या आर्यभट्ट एल्डर के नाम से भी जाना जाता है , उनका जन्म 476 में पाटलिपुत्र (संभावित रूप से आशकाका या कुसुमपुर भारत) में हुआ। वह एक खगोल विज्ञानी और सबसे पहले भारतीय गणितज्ञ(Mathematician) थे, जिनका काम और इतिहास आधुनिक विद्वानों के लिए उपलब्ध हैं।

आर्यभट्ट का शुरुआती जीवन | Beginning Life of Aryabhata

 

Aryabhatta

 

आर्यभट्ट का जन्म 476 ईसा पूर्व भारत में बिहार के एक शहर, टेरेनागा में हुआ था। हालांकि यह बात निश्चित है, उन्होंने अध्ययन के लिए कुसुमपुर (आधुनिक पटना) की यात्रा की और यहां तक कि वह कुछ समय के लिए यहाँ रहे भी थे। इसका उल्लेख(mention) कुछ स्थानों पर किया गया है कि आर्यभट्ट, कुसुमपुर में पाटलिपुत्र के नजदीक शैक्षिक संस्थान के प्रमुख थे। नालंदा विश्वविद्यालय के परिसर में एक वेधशाला(Observatory) थी इसलिए यह परिकल्पना भी है कि आर्यभट्ट इस विश्वविद्यालय के प्रिंसिपल भी थे। दूसरी ओर कुछ अन्य टिप्पणियां बताती हैं कि वह केरल के थे।

आर्यभट्ट के गणितीय  कार्य  Mathematical work of Aryabhatta

Aryabhatta

आर्यभट्ट ने कई गणितीय और खगोलीय ग्रंथों की रचना की। उनका मुख्य कार्य ‘आर्यभटीय’ था, जो गणित और खगोल विज्ञान का संकलन था। इस ग्रंथ का नाम आर्यभट्ट द्वारा नहीं दिया गया था, बल्कि बाद में टिप्पणीकारों(Commentators) द्वारा किया गया था। उनके एक शिष्य ‘भास्कर’ ने इसे ‘आष्टमाकटन’ नाम दिया, जिसका अर्थ है ‘आश्मका से ग्रंथ’। इस ग्रंथ को ‘आर्य-शत–-अष्ट’ के नाम से भी भी जाना जाता है जो कि ‘आर्यभट्ट का 108 वां अनुवाद है। यह बहुत ही शाब्दिक नाम है क्योंकि इस ग्रंथ में वास्तव में 108 छंद(Verses) शामिल हैं। इसमें गणित की कई शाखाएं शामिल हैं जैसे बीजगणित, अंकगणित, समतल और गोलाकार त्रिकोणमिति। इसके अलावा इसमें निरंतर भिन्नों का सिद्धांत , घातांक श्रेणी(Exponent grade) का योग, साइन तालिका और द्विघात समीकरणों पर सिद्धांत हैं। आर्यभट्ट ने स्थान मूल्य(value) प्रणाली पर कार्य किया, जिसमें संख्याओं(Numbers) को चिन्हित करने और गुणों को व्यक्त करने के लिए शब्दों का उपयोग किया। उन्होंने पाई () और त्रिकोण के क्षेत्र के अन्तराल को प्रस्तुत किया, साथ ही उन्होंने साइन की अवधारणा को प्रस्तुत किया। उसका काम ‘अर्ध-ज्या’ कहलाता है जिसे ‘हाफ कोर्ड’ ‘ के रूप में अनुवादित किया गया है।

आर्यभट्ट के खगोलीय कार्य Aryabhata Astronomical Works

Aryabhatta

आर्यभट्ट ने खगोल विज्ञान में बहुत ही कम कार्य किया है वो ये बात जानते थे की कि पृथ्वी सूर्य के चारों ओर एक धुरी पर घूर्णन कर रही है और उसके चारो और चंद्रमा घूर्णन करता है आर्यभट्ट ने 9 ग्रहों(Planets) की स्थिति की खोज भी की और कहा कि ये भी सूरज के चारों ओर घूर्णन करते हैं।  उन्होंने चंद्र और सूर्य ग्रहण के बारे में बताया आर्यभट्ट ने एक साल में दिनों की सही संख्या 365 बताई। वह यह उल्लेख करने वाले पहले व्यक्ति थे कि पृथ्वी सपाट नहीं थी लेकिन वास्तव में एक गोलाकार आकार की है। उन्होंने पृथ्वी की परिधि(perimeter) और व्यास के बारे में भी बताया, और 9 ग्रहों की कक्षाओं की त्रिज्या का भी उल्लेख किया।

आर्यभट्ट के बारे में कुछ मुख्य तथ्य facts about Aryabhatta

Aryabhatta

image source

 

  • इनके लोक प्रिय ग्रन्थ आर्यभटीय को आर्यभटीय नाम इनके 100 साल बाद भारतीय गणितज्ञ भास्कर ने दिया था।
  • आर्यभटीय ग्रंथ में कुल 121 श्लोक है। जो चार भागों में बंटे हुए हैं। i. दशगीतिका, ii. गणितपाद,  iii. कालक्रिया iv. गोलपाद
  • उन्होंने दशगीतिका भाग में पहले पांच ग्रहों की गणना एवम हिन्दू कालगणना और त्रिकोणमिति की चर्चा की है।
  • गणितपाद में उन्होंने अंकगणित, बीजगणित और रेखागणित पर सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की है।
  • कालक्रिया में उन्होंने हिंदुकाल गणना सहित ग्रहों की गतियो पर जानकारी दी है।
  • गोलपाद में इन्होने साइंस सम्बंदित जानकारी दी है। इसमें उन्होंने चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण तथा ग्रहों की गतिया समेत सूर्य से दुरी अदि की जानकारी दी है।
  • आर्यभट्ट के अनुसार 1 साल की लंबाई 365.25868 दिन है जबकि वर्तमान गणना 365.25636 है।
  • आर्यभट के अनुसार पृथ्वी की परिधि की लम्बाई 39,968.05 किलोमीटर बताई है। जबकि यह वास्तव में 40,075.01 से 0.2 प्रतिशत कम है।
  • आर्यभट द्वारा बताई गई सूर्य और ग्रहों के बीच की दुरी वर्तमान मापक से मेल-जोल है। लेकिन उनके द्वारा पृथ्वी और सूर्य के बीच में बताई गई दुरी में अंतर पाया गया है।
  • आर्यभट द्वारा पृथ्वी की एक दिन की घुमने की गति 23 घंटे, 56 मिनट, 4.1 सेकंड बताई गई है। जो की वास्तविकता से 0.86 सेकंड कम है।
  • आर्यभट द्वारा चाँद के पृथ्वी के इर्द गिर्द चक्कर लगाने का समय 27.32167 दिन बताया गया है। जबकि वास्तविकता 27.32166 दिन के बराबर है।
  • ज्यादातर लोग मानते है की आर्यभट ने जीरो (0) की खोज की थे। लेकिन यह कथन सत्य नहीं है। उन्होंने केवल गणनाओ को विशेष चिन्हों द्वारा लिखने की शुरुआत की थी। क्योंकि आर्यभट से पहले गणनाओ को शब्दों में लिखा जाता था। उन्होंने गणनाओ को आधुनिक नम्बरों में लिखना शुरू कर किया था।
  • आर्यभट ने सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण लगने की भी खोज की थी इसके साथ-साथ ग्रहण लगने का समय निकलने का फार्मूला और ग्रहण कितनी देर तक रहेगा इसके बारे में भी बताया था।
  • आर्यभट ने पाई की वैल्यू (3.1416) को दशमलव के बाद चार अंको तक ही सही बताया है।
  •  आज पूरी दुनिया में पढ़ी जाने वाली त्रिकोंमिति की खोज आर्यभट ने ही की थी।
  •  भारतीय दर्शनशास्त्र के अनुसार सृष्टी की उत्पति पांच तत्वों से हुई है। लेकिन आर्यभट ने आकाश को तत्व नहीं माना है।
  • आर्यभट मानते है, सूर्य सौर मंडल के केंद्र में स्थित है। पृथ्वी सहित अन्य ग्रह इसके परिक्रमा करते है।

आर्यभट्ट की मृत्यु

उनकी मृत्यु का कारण सही रूप से सिद्ध नहीं हो पाया है। पर माना जाता है उनकी मृत्यु 550AD में हुई थी।