×

पूरी दुनिया में प्रसिद्ध अलीगढ़ में बने तालों का इतिहास | Aligarh Lock History in Hindi

पूरी दुनिया में प्रसिद्ध अलीगढ़ में बने तालों का इतिहास | Aligarh Lock History in Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

हिन्दू और मुसलमान दोनों मिलकर करते है ताले बनाने का काम |  All About Aligarh Lock History in Hindi

दोस्तों उत्तर प्रदेश राज्य में अलीगढ स्थित है. दोस्तों अलीगढ आज विश्वविद्यालय के साथ अपने तालों के लिए भी पुरे विश्व में प्रसिद्ध है. दोस्तों अलीगढ का पुराना नाम "कोइल’ या ‘कोल" यह "नरोरा पावर प्लांट" से महज 50 किलोमीटर दुरी पर स्थित है. दोस्तों अलीगढ शहर भारत देश का 55 वा सबसे बड़ा शहर है।  1717 में ईसवी में अलीगढ के  राजा साबित खा ने इसका नाम बदलकर "साबितगढ़" रख दिया था। बाद में  1757 जाटों के शासन में इस शहर का नाम रामगढ रख दिया. अलीगढ नाम नफज खां के द्वारा रखा गया था।

तालों का प्रयोग | Aligarh History In Hindi

Aligarh Lock History

Source 2.bp.blogspot.com

दोस्तों तालों का प्रयोग घरो के दरवाजे,कीमती वस्तुओँ को सुरक्षित रखने के लिए लगाया जाता है। ताकि उनका कीमती सामान कोई व्यक्ति चुरा ना सके तो अब आगे जानते है अलीगढ के तालों की खासियत के बारे में.

5 हजार से ज्यादा ताला कम्पनियाँ करती है काम | Aligarh Famous Aligarh locks Hindi

Aligarh Lock History

Source www.thehindu.com

दोस्तों करीब 130 सालो पहले अलीगढ में जॉनसंस एंड कम्पनी ने ताले बनाने का काम शुरू किया था। आज देश के हर कोने में इन के तालों की एक अलग ही पहचान है।  अलीगढ अपने तालों की तरह- तरह की डिजाइन के लिए काफी प्रसिद्ध है। दोस्तों आज अलीगढ में 5 हजार ताला बनाने वाली कंपनिया काम करती है। जहां 2 लाख से ज्यादा लोग ताले बनाने का काम करते है।

  1. अलीगढ एक ऐसा शहर है जहां हिन्दू और मुसलमान दोनों मिल कर तालों का कारोबार करते है।
  2. यहां के लोगो के साथ मिलकर काम करने के कारण अलीगढ में कुटीर उद्योग ज्यादा है । क्योकि कोई घर में लॉकर को लगता है, कोई उसके पॉलिश करते है कोई नये ताले का निर्माण करते है, चाबी को नया आकर देना इस तरह लोग अलग-अलग काम अपने घरो में करते है।
  3. साल 1870 ई. में इंग्लैंड के एक नागरिक ने यहां अपनी कंपनी खोली । और ये कंपनी तालों का व्यापार करने लग गई।
  4. अलीगढ में ताले और पीतल कलाकृतियों का निर्माण होता है। ये अपनी इसी कलाकृतियों के कारण प्रसिद्ध है। इसे ताला नगरी के नाम से भी जाना जाता है।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल पसंद आये तो कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दे इस आर्टिकल से जुड़ा कोई सुझाव है तो कमेंट में जरूर बताये। धन्यवाद