×

योगेश्वर दत्त का जीवन परिचय | Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

योगेश्वर दत्त का जीवन परिचय | Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

योगेश्वर दत्त कुश्ती जीवन का संघर्ष, सफलता, परिवार ,शिक्षा की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में | Yogeshwar Dutt Life Story In Hindi, Yogeshwar Dutt In Hindi

  • नाम - योगेश्वर दत्त
  • जन्म दिनांक - 2 नवंबर 1982 ( उम्र 35 साल )
  • जन्म स्थान - भैंसवाल, गोहाना सोनीपत, ( हरियाणा )
  • योगेश्वर दत्त की लंबाई - 5 फ़ुट 7 इंच 1.70 मी.)
  • योगेश्वर दत्त का वजन - 60 किलोग्राम 
  • पिता का नाम -  राम मेहर
  • माता का नाम - सुशीला देवी 
  • पत्नी का नाम - शीतल  शर्मा  (शादी वर्ष 2017)
  • खेल - भारतीय पहलवान
  • प्रमुख उपलब्धिया एव अवार्ड  - 2012 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में कुश्ती - पुरुषों की फ्रीस्टाइल 60 किलोग्राम, राजीव गांधी खेल रत्न, पद्मश्री, कुश्ती के लिए अर्जुन पुरस्कार

दोस्तों आज हम बात करेंगे भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त के जीवन के बारे में ,योगेश्वर दत्त आज भारत देश के एक प्रसिद्ध पहलवाल और कुश्ती के खिलाड़ी है । योगेश्वर दत्त ने साल 2012 में ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक कुश्ती में 60 किलोग्राम में देश के लिए कांस्य पदक जीता था। इसके बाद भी इनकी सफलता थमी नहीं और साल 2004 में योगेश्वर दत्त ने ग्लास्गो, स्कॉटलैण्ड में आयोजित "कॉमनवेल्थ खेलों " में 65 किलोग्राम में फ्रीस्टाइल कुश्ती में कनाडा के पहलवान को हरा कर भारत की झोली में गोल्ड मैडल डाला था। योगेश्वर दत्त की कुश्ती में इन सफलताओं के कारण भारत सरकार ने उन्हें "राजीव गाँधी खेल रत्न" से सम्मानित किया था। योगेश्वर दत्त को उनके फैन "योगी" एवं "पहलवान योगी" के नाम से भी बुलाते है।

योगेश्वर दत्त का आरंभिक जीवन | Early life of Yogeshwar Dutt

Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

Source starsunfolded.com

दोस्तों भारत के इस कुश्ती पहलवान योगेश्वर दत्त का जन्म 2 नवंबर 1982 हरियाणा राज्य के सोनीपत में हुआ था।  दोस्तों योगेश्वर दत्त का जन्म बहुत ही शिक्षित परिवार में हुआ था। योगेश्वर दत्त के माता और पिता दोनों ही अध्यापक थे। योगेश्वर दत्त के दादा भी एक सरकारी अध्यापक थे। परिवार में सभी लोगो की यही तमन्ना थी की योगेश्वर पढ़ लिख कर उनके नक़्शे कदम पर चले लेकिन दोस्तों योगेश्वर दत्त की किस्मत में कुछ और ही लिखा था। योगेश्वर दत्त को बचपन से कुश्ती से काफी लगाव था। जब योगेश्वर दत्त छोटे थे तब अपने गांव के एक पहलवान बलराज के कारनामे सुन उनसे कुश्ती के लिए प्रेरित हुए उन्ही दिनों में योगेश्वर दत्त ने कुश्ती में करियर बनाने के ठान ली थी।

योगेश्वर दत्त की शिक्षा | Yogeshwar Dutt Education

Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

Source www.thehindu.com

जब योगेश्वर दत्त का दाखिला स्कूल में हुआ तब उन्होंने स्कूल में होने वाली कई प्रतियोगिताओँ भाग लिया और उनमे जीत भी हासिल  की. स्कूल में जीती इन कुश्तियों ने योगेश्वर को आगे बढ़ने का हौसला बढ़ा दिया  और जब साल 1992 को पांचवी क्लास में थे तब उन्होंने स्कूल  में "स्कूल चैंपियनशिप" का ख़िताब जीता. उनके इस हुनर को देख परिवार वालो ने भी भी उनका इस खेल में सपोर्ट किया। साल 1994 में योगेश्वर ने स्कूल की तरफ से पोलेंड  में "अन्तर्राष्ट्रीय स्कूल कैडेट खेलों" में भाग लिया। और इस में स्वर्ण पदक भी अपने नाम किया। फिर साल 1996 में योगेश्वर दत्त ने एक बडा फैसला लिया और पढ़ाई छोड़ अपना पूरा ध्यान कुश्ती पर लगाने लग गए और दिल्ली के "छत्रसाल स्टेडियम" में चले गए वही से ही इस महान कुश्ती पहलवाल के करियर की शुरुआत हुई।

योगेश्वर दत्त का करियर | Yogeshwar Dutt Career In Hindi

दोस्तों योगेश्वर दत्त के करियर की शुरुआत साल 2003 में लन्दन में हुए "कॉमनवेल्थ कुश्ती चैंपियनशिप" से हुई, इस प्रतियोगिता में योगेश्वर दत्त ने भारत का नेतृत्व करते हुए 55 kg फ्रीस्टाइल वर्ग में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता.साल 2004 में एथेंस ओलंपिक योगेश्वर दत्त भरतीय कुश्ती दल हिस्सा बने और पुरुष वर्ग के 55kg फ्रीस्टाइल 18 वा स्थान हासिल किया।

Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

Source i.ytimg.com

योगेश्वर दत्त - 2006 (Yogeshwar Dutt)

योगेश्वर दत्त के जीवन सबसे मुश्किल समय तब आया जब 3 अगस्त 2006 को उनके पिता का निधन हो गया पिता के निधन के 9 दिन ही पहले ही योगेश्वर दत्त दोहा में हो रहे "एशियाई गेम्स" के लिए गए हुए थे। इस समय वो घुटने की चोट से भी परेशान थे। लेकिन फिर भी भावात्मक और शारीरिक क्षति होने के बाद भी योगेश्वर ने देश के लिए 60 kg वर्ग में कांस्य पदक जीता.

योगेश्वर दत्त - 2008 (Yogeshwar Dutt)

योगेश्वर दत्त ने साल 2008 दक्षिण कोरिया में आयोजित हो रहे "एशियाई जेजू  चैंपियनशिप" में गोल्ड मैडल जीत कर 2008 में होने वाले "बीजिंग ओलंपिक" के लिए क्वालीफाई कर लिया दोस्तों योगेश्वर का ये सेकंड ओलंपिक था। दूसरी बार भी उन्हें असफलता हाथ लगी। 

योगेश्वर दत्त - 2010 (Yogeshwar Dutt)

Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

Source new-img.patrika.com

2010 में योगेश्वर दत्त ने राजधानी दिल्ली में आयोजित "कॉमनवेल्थ गेम्स" में शामिल होने से पहले अपनी घुटने की चोट से संघर्ष किया और इन सब से लड़ते हुए 60kg फ्रीस्टाइल वर्ग में जीत हासिल करने के लिए चल दिए। योगेश्वर के उस समय घुटने की सर्जरी हुई थी । लेकिन फिर भी उन्होंने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। 

योगेश्वर दत्त - 2012 (Yogeshwar Dutt)

साल 2012 में कज़ाखस्तान देश के अस्ताना में खेले गए "एशियाई योग्यता प्रतियोगिता" योगेश्वर दत्त ने रजत पदक जीतकर. साल 2012 में "लन्दन ओलम्पिक" के क्वालीफाई कर लिया। इसके बाद 12 अगस्त 2012 "लन्दन ओलंपिक" में पुरुष के  60kg वर्ग में कस्य पदक जीता और देश के लिए उस पल को यादगार बना दिया। देश में 1952 में डी. जाधव और बाद में 2008 -2012 सुशील कुमार के बाद योगेश्वर दत्त भारत के लिए ओलंपिक पदक जितने वाले कुश्ती पहलवान बन गए।

योगेश्वर दत्त - 2014 (Yogeshwar Dutt)

Yogeshwar Dutt Biography In Hindi

Source images.indianexpress.com

साल 2014 में योगेश्वर दत्त ने स्कॉटलैंड के ग्लासगो में आयोजित हो रहे "कॉमनवेल्थ गेम्स" में भारत देश का प्रतिनिधित्व करते हुए अपने मैच में काफी अच्छा प्रदर्शन किया और 60 kg फ्रीस्टाइल स्पर्धा में गोल्ड मैडल जीता.

योगेश्वर दत्त - 2016 (Yogeshwar Dutt)

साल 2016 में अस्ताना में खेले गए "एशियाई ओलंपिक क्वालीफ़ायर्स" मैच को क्वालीफाई कर योगेश्वर दत्त ने रियो ओलंपिक में अपनी जगह पक्की की. इसके बाद  रियो ओलंपिक में उनका सामना मंगोलिया के गंज़ोरिगीं मंदाख्नारण से हुआ और उन्हें इस मैच में असफलता हाथ लगी।

योगेश्वर दत्त के बारे में रोचक तथ्य | Interesting facts about Yogeshwar Dutt In Hindi

  1. योगेश्वर दत्त ने 6 साल की उम्र में कोच रामफल को गुरु मानते हुए कुश्ती करना शुरू कर दिया था.
  2. योगेश्वर दत्त स्वर्गीय श्री बलराज पहलवान को अपना आदर्श मानते है.
  3. योगेश्वर दत्त खाशाबा दादासाहेब जाधव और सुशील कुमार के बाद देश के लिए ओलंपिक में पदक जीतने वाले तीसरे खिलाड़ी बने। 
  4. साल 2012 में योगेश्वर दत्त को  "राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार" और साल 2013 में पद्म श्री पुरस्कार मिला.
  5. योगेश्वर दत्त हर रोज 6 घंटे प्रशिक्षण अभ्यास करते है जिसमे दौड़ना और जिम करना भी इनका एक डेली रूटीन है.
  6. योगेश्वर दत्त हरियाणा पुलिस में पुलिस अधीक्षक (DSP) भी है.
  7. योगेश्वर बचपन से ही पहलवान सुनील कुमार के एक अच्छे दोस्त है.