×

मिल्क मैन ऑफ़ इंडिया वर्गीज कुरियन और अमूल डेयरी की सफलता की पूरी कहानी | Amul Dairy Success in Hindi

मिल्क मैन ऑफ़ इंडिया वर्गीज कुरियन और अमूल डेयरी की सफलता की पूरी कहानी | Amul Dairy Success in Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-5 months ago
+

“विपरीत परस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं , तो कुछ लोग लोग रिकॉर्ड तोड़ते हैं।“

संसार में ऐसे कम ही लोग होते है जो अपने हुनर के अनुसार जीवन में अपने कार्य करते है उसी तरह एक शख्स है जिन्होंने साइंस से ग्रेजुएशन और मैकेनिकल फिल्ड से B.E और और अमेरिका से मास्टर ऑफ़ साइंस की डिग्री लेने वाला व्यक्ति जब किसी डेयरी प्रोडक्ट फिल्ड में काम करें तब कहानी में सब कुछ अटपटा लगने लग जाता है लेकिन दोस्तों कहा जाता है की यदि व्यक्ति जीवन में अपनी अच्छी सोच के साथ किसी भी छोटे से छोटे कार्य को करें तो भी वो उस कार्य से जीवन में महान बन सकता है और इस बात को साबित कर दिखाया वर्गीज कुरियन जिन्हे आज की सबसे बड़ी दुग्ध कंपनी अमूल का फाउंडर माना जाता है

दोस्तों अमूल कंपनी की शुरुआत के पीछे काफी रोचक कहानी है दरअसल गुजरात राज्य में छोटे छोटे गरीब किसानो को उनका दुग्ध उत्पादन का हक दिलाने के लिए इस कंपनी की शुरुआत हुई और ये मामला था साल 1946 का जब भारत देश अंग्रेजो की गुलामी में जी रहा था और गांव में रहने वाले गरीब किसानो को अपने दूध को दलालो की सहायता से मार्केट में बेचना पड़ता था और इस पूरी प्रक्रिया में उनको दूध में मिलने वाले प्रॉफिट का ज्यादातर हिस्सा दलाल बीच में ही खा जाते थे लेकिन उस समय किसानो के पास माध्यम से दूध बेचने का और कोई तरीका नहीं था क्योकि उस समय देश में कुछ विदेशी कंपनियों ने मार्केट में अपना कब्ज़ा जमा रखा था

Amul Dairy Success in Hindi

Source data1.ibtimes.co.in

और तब देश के गरीब किसानो को उनका हक़ दिलाने के लिए तिरुवंदास ने लोह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल और मोरारजी देसाई से इस बारे में बात की और तब अमूल कंपनी की 14 दिसंबर 1946  को एक कॉरपोरेट कंपनी के रूप में की गई दोस्तों कॉर्पोरेटिव वो कंपनी होती है है जिसे कई लोगो के समूह ने मिल कर बनाया हो कंपनी के स्थापित होने बाद साल 1949 में तिरुवंदास के कहने पर वर्गीज कुरियन अमूल कंपनी को ज्वाइन कर लिया वर्गीज कुरियन जिन्होंने अमेरिका के मिशिगन स्टेट विश्वविद्यालय से मास्टर ऑफ़ साइंस की डिग्री प्राप्त की थी दोस्तों ये बात आप भी सोच रहे होंगे की अमेरिका में पढ़ाई कर वर्गीज कुरियन कई भी एक अच्छी नौकरी कर अपना जीवन अच्छे से जी सकते थे लेकिन दोस्तों वर्गीज कुरियन अपने देश के किसानो के हक़ के लिए काम करना चाहते थे इस लिए उन्होंने इस मार्ग को सबसे पहले चुना जब वर्गीज कुरियन ने अमूल कंपनी को ज्वाइन किया तब उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती ये थी तब भारत में डेयरी क्षेत्र में विदेशी कंपनी पोलसन डेयरी ने पूरी भारत में अपने व्यापार को फैला रखा था और तब भारत में डेयरी फिल्ड में सबसे बड़ी और भारत में एकमात्र कंपनी होने के कारण देश के किसानो को दलालो के माध्यम से इस कंपनी को दूध बेचना पड़ता था और वो भी काफी कम दर पर.

तब वर्गीज कुरियन ने लोगो के सामने जाकर उनसे बात करना शुरू किया और उन्हें अमूल डेयरी के बारे में बताया किस आप पोलसन कंपनी में दलाओ के माध्यम से दूध न बेचें और अपना दूध इस समूह में जुड़ कर बेचें इसमें आपको अच्छा फायदा होगा और दलाओ से भी छुटकारा मिलेगा वर्गीज कुरियन का ये आईडिया काफी सफल हुआ और सभी किसानो को उनकी बात समझ आ गई और सभी अमूल डेयरी साथ जुड़ने शुरू हो गए और दोस्तों कहा जाता है जहां एकता होती है उन्हें सफल होने से कोई नहीं रोक सकता

Amul Dairy Success in HindiSource resize.indiatvnews.com

अब अमूल कंपनी का दूध पुरे देश में लोगो तक सप्लाई होने लगा और तब वर्गीज कुरियन ने अपनी कंपनी में ऐसा मॉडल तैयार किया जिससे किसानो को कम से कम लागत में अच्छा लाभ मिल सकें वर्गीज कुरियन ने अपने इस दूध की गुणवत्ता को मापने के लिए एक समूह बनाया जिसे कई भागो में विभाजित कर दिया सबसे पहले सभी गांव में एक यूनियन बनाई गई और वहां पर अमूल के प्लांट की स्थापना की गई जब गांव से दूध की गुणवत्ता चेक कर ली जाती थी तब उसे आगे डिस्ट्रिक्ट लेवल पर भेज दिया जाता था और यह जांच होने के बाद उसे राज्य में भेजा जाता जहां इस दूध की पेकिंग की जाती थी और यहां से ये दूध लोगो के घर तक पहुँचता था वर्गीज कुरियन की ये मेहनत सफल होने लगी और लगातार सफलताओं के साथ आगे बढ़ रहा था लेकिन दोस्तों अमूल की सफलता में सबसे बड़ा योगदान था मिल्क पाऊडर का था जिसे भैंस के दूध से अमूल ने तैयार किया था तब कुछ विशेषज्ञों का मानना था की भैंस के दूध से मिल्क पाऊडर तैयार नहीं किया जा सकता लेकिन उन सभी लोगो की बात को वर्गीज कुरियन ने गलत साबित कर दिया और भैंस के दूध पर रिसर्च करते हुए अमूल के लिए एक नई खोज कर दी  दोस्तों इस आविष्कार के बाद अमूल ने कई रिसर्च किये और लोगो के लिए मार्केट में अमूल दूध और मिल्क पाऊडर के अलावा घी पनीर आइसक्रीम और मक्खन जैसे कई नई प्रोडक्ट मार्केट में उतारे

Amul Dairy Success in Hindi

Source im.rediff.com

दोस्तों आज अमूल सफलता की उस मंजिल पर बैठा है जहां इसके साथ करीब 32 लाख लोग जुड़े हुए है जो हर रोज फैक्ट्री से लोगो के घर तक  अमूल का दूध पहुंचाते है वर्गीज कुरियन के द्वारा देश में किये इस महान कार्य के लिए उन्हें पदम् विभूषण और कृषि  रत्न और पदम श्री जैसे भारत के महान सम्मान देकर उन्हें सम्मानित किया गया इस उपलब्धि के लिए लोगो ने उन्हें  मिल्क मैन ऑफ़ इंडिया नाम की उपाधि दी दोस्तों आज मिल्क मैन ऑफ़ इंडिया हमारे बीच नहीं है उनका 9 सितंबर 2012 गुजरात में हो गया था दोस्तों आज भले ही वो इस दुनिया में नहीं है लेकिन देश के लिए उनके विचार हमेशा जीवित रहेंगे

Read More - हवेली राम से Havells इलेक्ट्रॉनिक ब्रांड का पूरा सफर