×

डिजिटल भारत पर निबंध | Essay on Digital India in Hindi

डिजिटल भारत पर निबंध | Essay on Digital India in Hindi

In : News By storytimes About :-1 year ago
+

डिजिटल भारत पर निबंध | All About Essay on Digital India in Hindi

मई 2014 जब भारत राष्ट्र को नरेंद्र मोदी के रूप में एक ऐसा नेतृत्व करता मिला जिसे नेतृत्व में सरकारी विभागों एवं भारत के लोगों को एक दूसरे के पास लाने के लिए एक सरकारी पहल की गयी जिसे अंकीय भारत या डिजिटल भारत (डिजिटल इंडिया ) के नाम की संज्ञा के साथ 125 करोड़ आबादी वाले इस राष्ट्र के समक्ष प्रस्तुत किया गया|

Essay on Digital India

सर्प्रथम भारत सरकार की इस महत्वाकांक्षी प्रस्तुति अर्थात डिजिटल इंडिया को 1 जुलाई 2015, दिन बुद्धवार दिल्ली के इंडोर स्टेडियम में देश के प्रमुख उद्योग पतियों (टाटा समूह के साइरस मिस्त्री, रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अम्बानी, विप्रो के अध्यक्ष अज़ीम प्रेमजी) की मौजूदगी में अस्तित्व जे लाया गया|
                                        
भारत सरकार के प्रयासों से अमल में लायी गई इ-गवर्नेंस की इस योजना से देश के 600 जिलों व 2 लाख 50 हज़ार गांव को एक दूसरे से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया ताकि आधुनिकता के इस दौर में भारत के प्रत्येक व्यक्ति तक त्वरित सूचनाओं को पहुंचाया जा सके| 1 लाख करोड़ की इस योजना को 2019 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है| इस योजना के माध्यम से भारत सरकार की यही कोशिश है की गांव से लेकर शहर सभी को इसके माध्यम से जोड़ा जा सके, ताकि लोगों को कागजी कामकाजों के लिए इधर - उधर भटकना न पड़े| भारत सरकार यही सपना है की भारत के 125 करोड़ देशवासियों को माउस के एक क्लिक पर विश्व स्तर किस सुविधायें मिल सकें|

Essay on Digital India

भारत सरकार द्वारा देशवासियों के हीत में लायी गई इस परियोजना के 3 महत्वपूर्ण घटक हैं जिनके द्वारा देश भर में डिजिटल संरचना का निर्माण, डिजिटल साक्षरता, डिजिटल तरीके से सेवा प्रदान करना आता है| डिजिटल भारत के इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर निगरानी और नियंत्रण रखने के लिए भारत सरकार ने डिजिटल सलाहकार समूह की स्थापना की है| इस सेवा के जरिये यही कोशिश की जा रही है की बिना कागज के इस्तेमाल के सरकारी सेवायें इलेक्ट्रॉनिक रूप से जनता तक पहुंच सकें| इस योजना में एक इ वे प्लेटफार्म का निर्माण किया जायेगा जहाँ दोनों (सेवा प्रदाता और उपभोक्ता) को लाभ होगा | इस सेवा की सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की ये सेवा सभी साझेदारों की पूर्ण समर्थन वाली परियोजना है|

Essay on Digital India

हालाँकि हम भारतीय परिवेश पर नज़र डालें तो हम पाएंगे की वाकई भारत सरकार की इस योजना का हमारे समाज में असर परिलक्षित होने लगा है लेकिन लीगल फ्रेमवर्क, गोपनीयता का आभाव, डाटा सुरक्षा नियमों की कमी, नागरिक स्वायत्तता हनन, साइबर सुरक्षा में कमी जैसी व्यवस्था वाली इस सेवा के क्रियान्वयन से पूर्व दूर करना ही होगा|

इन सारी कमियों के बावजूद ब्रॉड बैंड हाईवे, सबको फ़ोन की उप्लभ्दता, इंटरनेट तक सबकी पहुंच, इ शासन, टेक्नोलॉजी से मदत, इ क्रांति, सभी के लिए सूचना, इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग, आई टी के जरिये रोज़गार, भविष्य के तैयारी के कार्यक्रम जैस कुछ महत्वपूर्ण तथ्य भी है जो इस परियोजना के क्रियान्वन होने से बड़ी उम्मीद सजोय हैं|

Essay on Digital India
 
भारत में डिजिटल इंडिया की योजना के अमल में लाये जाने के बाद से भारत के प्रत्येक हिस्से में आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहा है| इस योजना से लोगों को अभूतपूर्व सहायता भी मिल रही है| लोगों को अब बैंको के कार्य के लिए इधर - उधर भटकना नहीं पड़ता वाकई अब सबकुछ माउस के एक क्लिक पर सामने आ जाता है| और तो और डिजिटलाइज़ेशन की सेवा ने ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर जरुरी कागजातों को जरुरत मंदों तक पहुंचने की प्रक्रिया को और गति प्रदान कर दी है|

Essay on Digital India

अब भारत के सीनियर सिटीजन हो या ग्रामीण इलाकों में रहने वाले ग्रामीण सभी को सरकार द्वारा चलायी जा रही इ गवर्नेंस की सुविधाओं से काफी फ़ायदा पहुंच रहा है| डिजिटल इंडिया की परियोजना ने जहाँ एक तरफ रोज़गार के अवसर में वृद्धि की वहीँ भारत के स्तम्भ माने जाने वाले किसानों तक कृषि सम्बन्धी और मौसम सम्बन्धी जानकारियों को पहुंचाकर भारत को समृद्ध बनाने की ओर अपना कदम बढ़ाया है| भारत राष्ट्र को आज दुनिया में विकाशशील देशों किए श्रेणी में काफी आगे माना जाने लगा है और भारत की सशक्तता सायद भारत को भविष्य में सुरक्षा परिषद् की स्थायी सदस्यता दिला दे| भारत की ग्रामीण जनता भी अब डिजिटल साक्षर हो रही है और उनकी साक्षरता से एक ऐसे माहौल का निर्माण हो रहा है जिसके जरिये हम पहले गांव फिर शहर और फिर राष्ट्र को मजबूत करने की ओर कदम बढ़ा रहे हैं|
 
अगर स्वयं के अनुभव से हम देखें तो धीरे-धीरे ही सही भारत में डिजिटल क्रांति का आगाज तो हो ही चुका है पर अंजाम देखना शेष है|