×

आखिर कहाँ छपते है भारतीय नोट ? | India Currency Printing In Hindi

आखिर कहाँ छपते है भारतीय नोट ? | India Currency Printing In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

दोस्तों हमारे जीवन में आज पैसा कितना जरुरी है ये बात मुझे आपको बताने की जरुरत नहीं है। आज यदि आपके जेब में पैसे नहीं है तो आपको यहां कोई पूछने वाला नहीं है। ये हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा है। दोस्तों ये तो हो गई निजी जीवन की बातें अब रूपये के बारे में और अधिक जानते है। भारतीय करेंसी में नोट और सिक्के दोनों चलते है। सिक्के में 1 रुपये, 2 रुपये, 5 रुपये और 10 रुपये है और नोट की बात करे तो 5,20,50'100,200,500,2000 , ये नोट 2016 की नोटबंदी के बाद में चलन में है। लेकिन दोस्तों आपने कभी सोचा है की जो नोट हमारे जीवन में इतने महत्वपूर्ण है आखिर वो छपते कहाँ  है.

एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में नोट केवल इन स्थानों पर ही छपते है - नासिक, सालबोनी, मैसूर और एक मध्य प्रदेश के देवास में ,क्योंकि दोस्तों केवल इन्हीं स्थानों पर बैंक नोट प्रेस, चार टकसाल और एक पेपर मिल स्थित है। और छोटी करेंसी के सिक्के इंडियन गवर्नमेंट के द्वारा बनाये जाते है ये मुंबई , नोएडा, कोलकाता और हैदराबाद में बनते है।

कहाँ छपते है भारतीय नोट | India Currency Printing

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के लिए पहला नोट सन 1862  ब्रिटिश सरकार ने UK में स्थित एक कंपनी से छपवाया था। ब्रिटिश सरकार साल 1920 तक भारतीय नोट ब्रिटेन से ही छपवाया करती थी। बाद में साल 1926 में ब्रिटिश सरकार ने भारत के राज्य महाराष्ट्र में नासिक में पहली बार प्रिंटिंग प्रेस की शुरुआत की  और यहाँ  पर 100,1000 और 10 हजार के नोट छपने लगे.

लेकिन देश की आबादी को देखते हुए उस दौरान नोट ब्रिटेन से भी मंगवाये जाते थे। लेकिन साल 1947 में अंग्रेजी हुकूमत से आजाद होने के बाद सभी भारतीय नोट नासिक में छपने लगे। इसके बाद साल 1975 भारत की दूसरी प्रिंटिंग प्रेस मध्य प्रदेश के देवास में शुरू हुई। लेकिन दोस्तों फिर भी आबादी को देखते हुए भारत में प्रिंटिंग प्रेस कम पड़ रही थी।

साल 1997 में भारत की आबादी को देखते हुए सरकार ने अमेरिका और कनाडा ,यूरोप से नोट मंगवाने शुरू कर दिए । बाहर के देशो से करेंसी छपवाने के कारण देश का काफी पैसा खर्च हो रहा था इस कारण साल 1999 मैसूर में और 2000 में पश्चिम बंगाल के सलबोनी में दो नई प्रिंटिंग प्रेस खोल दी गई । अब भारत की पूरी करेंसी इन्हीं चार जगहों पर छपती है।

कहाँ बनती है नोट में काम आने वाली स्याही | Indian Currency Printing Ink

भारतीय करेंसी में उपयोग ली जाने वाली स्याही स्विट्जरलैंड  देश की एक कंपनी "Sicpa" से खरीदी जाती है । दोस्तों आपको बता दे ये कंपनी भारत के अलावा भी कई देशो में स्याही का आयात करती है।

कहाँ बनता है नोट का कागज | Indian Paper Currency

भारतीय नोट को जिस कागज से बनाया जाता है वो कागज भारत में ही बनता है। भारत में एक ही पेपर मिल है जो होशंगाबाद में है। जो केवल भारतीय नोटों के लिए पेपर का निर्माण करती है। इस पेपर मिल के अलावा भारतीय नोटों के लिए पेपर UK और जापान से भी  आयात किया जाता है।

RBI के रजिस्टर ऑफिस जहां भेजे जाते है नोट | Cost of Currency Printing in India ,RBI Register Office List 

RTI के अनुसार हर नोट को बनाने में अलग-अलग लागत आती है। 5 रूपये में 50 पैसे ,10 रूपये के नोट में 0.96 पैसे। सभी नोट के बनने के बाद  देश में मौजूद रिर्जव बैंक की शाखाओं में भेजे जाते है। भारत में रिर्जव बैंक के कुल 18 रजिस्टर ऑफिस है 

  1. अहमदाबाद
  2. हैदराबाद
  3. बेंगलुरु
  4. भुवनेश्वर
  5. जयपुर
  6. जम्मू
  7. कानपुर
  8. कोलकाता
  9. मुंबई
  10. नागपुर
  11. दिल्ली
  12. पटना
  13. गुवाहाटी
  14. चेन्नई
  15. बेलापुर
  16. भोपाल
  17. तिरुपवंनतपुरम

दोस्तों यदि हमारे द्वारा लिखे गए लेख में आप भारतीय करेंसी के बारे में अच्छी तरह समझ पाएं है तो इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे. धन्यवाद