×

मिशन इंद्रधनुष क्या है और इसके क्या लाभ है | Mission Indradhanush In Hindi

मिशन इंद्रधनुष क्या है और इसके क्या लाभ है | Mission Indradhanush In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-11 months ago
+

मिशन इंद्रधनुष की शुरुआत कैसे और कब हुई | Mission Indradhanush In Hindi

दोस्तों आज हम बात करने वाले है "मिशन इंद्रधनुष" के बारे में, दोस्तों आपके मन में भी ये सवाल होगा की आखिर "मिशन इंद्रधनुष"  है क्या और  ये किस विषय से सम्बंधित है और इसकी शुरुआत कब और कहाँ और किस व्यक्ति ने की। दोस्तों आपके इस सवाल का जबाब आपको इस पोस्ट में मिल जाएगा। 

मिशन इंद्रधनुष आखिर चर्चा में क्यों? | Mission Indradhanush In Hindi

Mission Indradhanush In Hindi

imgae source

दोस्तों "मिशन इंद्रधनुष" चर्चा में आने का क्या कारण है "मिशन इंद्रधनुष" चर्चा में इसलिए आया की 2014 में भारत के प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने अपने गृहनगर वडनगर के दौरे के दौरान इस "मिशन इंद्रधनुष" की नींव रखी इसलिए "मिशन इंद्रधनुष" काफी चर्चा में है।

क्या है मिशन इंद्रधनुष | Mission Indradhanush In Hindi 

देश में आंशिक टीकाकरण से पूर्ण रूप से बच्चो को फायदा पहुंचाने के लिए 25 दिसंबर 2014 को "मिशन इंद्रधनुष" की शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। "मिशन इंद्रधनुष" पुरे भारत देश के लिए एक पहल है। इस योजना का विशेष तौर पर उन 201 जिलों पर फोकस है जहां पर आंशिक(अधूरा) टीकाकरण कराने वाले, 50% से अधिक बच्चे अभी भी रहते  है। "मिशन इंद्रधनुष" इन 7 बीमारियों से बच्चो को सुरक्षित रखता है जिनके नाम इस प्रकार है (पोलियो, टीबी, खसराडिप्थीरिया, काली खांसी, टेटनस, और हेपेटाइटिस-बी),  "मिशन इंद्रधनुष" का प्रमुख उद्देश्य 2020 तक टीकाकरण का कार्य पूर्ण करना है। इस मिशन के तहत 90% क्षेत्रों को करना है। कुल 4 चरणों में 2.53 करोड़  बच्चों और 68 लाख से भी ज्यादा गर्भवती महिलाओं को जीवनरक्षक टीके लगाने का कार्य पूर्ण किया गया। पहले दो चरणों के टीकाकरण में कुल 6.7% हर साल बढ़ोतरी दर्ज की गई।

मिशन इंद्रधनुष प्रमुख उद्देश्य | Mission Indradhanush In Hindi 

इस मिशन का प्रमुख उद्देश्य देश में बच्चों के स्वास्थ्य को प्रथम प्राथमिकता देना है। यदि एक टीके से बच्चों को सभी बीमारियों से दूर रखा जा सकता है तो  देश में ऐसा कोई बच्चा नहीं छुटना चाहिए जो इस टीके से अभी तक वंचित है। ये योजना मातृ एवं शिशु मृत्यु दर की रोकथाम के लिए किये जा रहे कार्यक्रम एक महत्वपूर्ण घटक है।

क्या है सघन मिशन इंद्रधनुष? | Mission Indradhanush In Hindi 

Mission Indradhanush In Hindi

Source trilok.co.in

  1. सघन "मिशन इंद्रधनुष" कार्यक्रम के जरिये देश में 2 वर्ष की आयु वाले बच्चे और उन गर्भवती महिलाओं तक पहुंचने का लक्ष्य है जो अभी तक टीकाकरण की सुविधा नहीं पा सके है।
  2. सघन विशेष अभियान के तहत टीकाकरण सुधार के लिए चयनित जिलों और राज्यों में दिसंबर 2018 तक टीकाकरण का 90% से भी ज्यादा टारगेट रखा गया है।
  3. अक्टूबर 2017 से ले कर जनवरी 2018 के बीच हर महीने "सघन मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम" में सर्वोच्च प्राथमिकता वाले जिलों और शहरी इलाको में कुल 173 जिले और 16  राज्यों के 121 जिलों एव 17 शहरों 8 पूर्वोत्तर राज्यों में आने वाले 52 जिलों में टीकाकरण का काम निरन्तर चालू रहेगा।
  4. सघन कार्यक्रम उन स्थानों पर पर चलाया जाएगा जहां पर टीकाकरण कम हुआ है।
  5. इस कार्यक्रम की जानकारी एव निगरानी के लिए विशेष रणनीति बनाई गई है। इसमें राज्यों और जिला स्तरो पर आत्मावलोकन के लिए एक सुधार योजना तैयार की गई है। ये योजना केंद्रीय स्तर तक चलाई जाएगी तभी दिसंबर 2018 तक 90% टीकाकरण का जो लक्ष्य था उसे हासिल किया जा सके।
  6. भारत में एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने वाले प्रवास करने शहरी झुग्गी-झोपड़ियों और उप- केंद्रों के क्षेत्रों पर खास तौर पर ध्यान दिया जाएगा जहां टीकाकरण या तो हुआ नहीं या वहां का टीकाकरण प्रतिशत काम है।
  7. "राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन"  के अंतर्गत शहरो और शहर में निवास करने वाली बस्तियों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

"मिशन इंद्रधनुष" की  राह में चुनौतियाँ | Mission Indradhanush In Hindi 

  1. इन मिशन में कई सकारात्मक बदलाव के बावजूद इस कार्यक्रम में कई चुनौतियां एवं कमियां अभी भी बनी हुई |
  2. राष्ट्रीय  टीकाकरण कार्यक्रम के तहत टीको का दायरा आवश्कता से बहुत ही कम है। एव आंतरिक और अंतरराज्यीय लेवल पर अंतर  अनुकूलतम  पोजीशन की और संकेत नहीं करता।
  3. आकड़ो की रिपोर्ट उपानुकूलतम स्थिति  को शो करते है जबकि बीमारियों की निगरानी प्रणाली में और सुधार लेन की जरुरत है।
  4. उन कारणों एव जिलों का पता लगाना महत्वपूर्ण है जहां पर व्यवस्थित रूप से टीकाकरण अभियान को चलाने की आवश्कता है।
  5. सभी जरुरी जीवन रक्षक टीकों  के साथ सभी बच्चों तक जाने के लिए अतरिक्त वाहनों की जरुरत है।