×

महान मुगल सम्राट अकबर के नवरत्न | Akbar Ke Navaratna In Hindi

महान मुगल सम्राट अकबर के नवरत्न | Akbar Ke Navaratna In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-3 months ago
+

दोस्तों अकबर भारत के एक महान मुग़ल सम्राट थे अकबर का पूरा नाम अबू-फाल जलाल-उद-दीन मुहम्मद अकबर था अकबर ने भारत के उपमहाद्धीप के अधिकांश हिस्सों पर मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की थी मुगलों के सम्राट अकबर को अकबर-ए-आजम शहंशाह और शहंशाह अकबर के नाम से भी जाने जाते थे 

अपने बल से भारत के कई क्षेत्रों पर सत्ता स्थापित करने वाले अकबर कम शिक्षित थे लेकिन उनमे बुद्धिवान लोगो को जल्द पहचान करने की कला था अकबर उन लोगो के हुनर का आदर भी करते थे साथ ही अकबर को को श्रेष्ठ इतिहासकारों, विचारधारी मनुष्यों, कलाकार , ज्ञानी लोग , साथ ही अकबर को चित्रकारी से लगाव था इस कारण उनका झुकाव  चित्रकारों की और भी था 

यही कारण है की अकबर ने अपने दरबार में 9 श्रेस्ट बुद्धिजीवो को नियुक्त किया समय के साथ अकबर के द्वारा चयनित ये 9 बुद्धिजीव अकबर के दरबार के " नवरत्न" Akbar Ke Navratna से भी पहचाने जाने लगे दोस्तों आज हम इस लेख के माध्यम से अकबर के  " नवरत्न" के बारे में बताने है 

ये है अकबर के नवरत्न - Akbar Navratana Name

  1. बीरबल - अकबर के मुख्य सलहाकार 
  2. सम्राट तानसेन - ( अकबर के दरबार मुख्य संगीतकार )
  3. जयपुर के राजा मानसिंह - (मुग़ल  सेना के प्रधान सेनापति)
  4. टोडरमिल - (मुग़ल साम्राज्य के वित्त विभाग के मंत्री )
  5. अबुलफजल - (एक महान दार्शनिक और साहित्यकार )
  6. फैजी - ( अकबर के दरबार फ़ारसी कवि )
  7. अब्दुर्रहीम खान-ए-खाना -(एक महान विद्वान् और कवी )
  8. मुल्ला दो प्याजा - (अकबर के मुख्य सलहाकार )
  9. फकीर अज़ुद्दीन - (सम्राट अकबर की रसोई )

1. बीरबल - अकबर के मुख्य सलहाकार

Akbar Ke Navaratna In HindiSource i10.dainikbhaskar.com

बीरबल का जन्म 1528 वर्ष  में कालपी में एक गरीब ब्राह्मण परिवार में हुआ था बीरबल मुग़ल सम्राट अकबर के उन नवरत्नों में सबसे अधिक लोकप्रिय थे बीरबल ने अपनी चतुराई और बुद्धिमत्ता का परिचय कई बार अकबर को दरबार में दिखाया अकबर बीरबल की हाजिर जबाबी और मजाकिया अंदाज को काफी पसंद करते थे आज भी आप अकबर और बीरबल के किस्से पढेंगे तो आपको ये काफी इंटरस्टिंग लगेंगे दोस्तों बीरबल आखिरी राजा थे जिन्होंने दीन-ए-इलाही धर्म को अपनाया था 

दोस्तों वो बीरबल ही थे जिनकी सलाह लेकर अकबर अपने साम्राज्य से जुड़े सभी महत्वपूर्ण फैसले लेते थे साल 1586 में युसुफजइयों के विरोध को ख़त्म करने के लिए बीरबल की हत्या कर दी गई जब इस खबर का पता जब अकबर को लगा तो वे काफी दुःखी हो गए

2. सम्राट तानसेन - अकबर के दरबार मुख्य संगीतकार

Akbar Ke Navaratna In Hindi

Source fizikamind.in

सुरों के ज्ञानी सम्राट तानसेन का जन्म ग्वालियर की धरती पर हुआ सम्राट अकबर के नवरत्नों में एक नाम तानसेन का भी आता है मुग़ल सम्राट अकबर इनकी संगीत कला के दीवाने थे जब भी तानसेन की मधुर आवाज अकबर सुनते वो उसमे मंत्रमुग्ध हो जाते थे 

तानसेन की इस मधुर आवाज की वजह से अकबर ने अपने दरबार में ये प्रमुख पद दिया था और साथ ही उन्हें "कण्ठाभरणवाणीविलास" की उपधि प्रदान की गई थी 

3. जयपुर के राजा मानसिंह - (मुग़ल  सेना के प्रधान सेनापति)

Akbar Ke Navaratna In Hindi

Source upload.wikimedia.org

जयपुर के आमेर के राजा मानसिंह के मुग़ल राजा अकबर के दरबार में कई बार अपनी बुद्धिमत्ता का परिचय दे कर अकबर का दिल चुकें थे अकबर ने उनकी इस बुद्धिमत्ता को देखते हुए मुगलो की विशाल सेना का प्रधान सेना पति नियुक्त कर दिया 

दोस्तों राजा मानसिंह के मुग़ल सेना के प्रधान बनने के बाद मुग़ल साम्राज्य ने काफी विस्तार किया और साथ ही मानसिंह के हिंदू राजा होने के चलते अकबर का हिन्दुओं के प्रति व्यवहार भी बदल गया उन्होंने जजिया कर भी खत्म कर दिया था 

मानसिंह को सेना प्रधान बनाने के बाद उन्होंने बिहार, बंगाल और काबुल समेत कई बड़े प्रदेशो में अपना सैन्य अभियान चलाया था

4. टोडरमल - (मुग़ल साम्राज्य के वित्त विभाग के मंत्री )

Akbar Ke Navaratna In HindiSource www.gksection.com

दोस्तों मुग़ल साम्राज्य वित्तीय कार्यो की देखरेख करते थे और इस मामले में वे बेहद ही होशियार थे इसी वजह से अकबर ने इन्हें अपने नौरत्नों में स्थान दिया 

दोस्तों वो टोडर मल ही थे जिन्होंने भूमि प्रणाली में पूरी दुनिया को मापन प्रणाली की सीख दी थी टोडरमल ने मुग़ल सम्राज्य में इस पद पर रहते हुए भूमि बंदोबस्त और मालगुजारी में कई बड़े बदलाव किए थे 

5. अबुल फजल - (एक महान दार्शनिक और साहित्यकार )

Akbar Ke Navaratna In HindiSource new-img.patrika.com

अकबर के नौरत्नों में महान दार्शनिक और साहित्यकार अबुलफजल का नाम भी शामिल है दोस्तों अबुलफजल में खास बात ये थी की जब भी कोई वाद विवाद होता तो वो इसमें इतने तेज थे की इनके सामने कोई टिक ही नहीं पता था 

अबुलफजल की इसी काबिलियत से अकबर उनके काफी प्रभावित थे और इसी के चलते उन्होंने अबुलफजल को अपना मुख्य सलाहकार पद पर नियुक्त किया दोस्तों अबुल फजल ने ही आइने अकबरी और अकबरनामा जैसे ग्रंथो की रचना की थी 

लेकिन इन सब के बीच सिहांसन की भूख रखने वाले सलीम और वीर सिंह बुंदेला ने मिलकर अकबर के नौरत्नों में से एक और मुख्य साहित्यकार अबुलफजल मारने की साजिश रची और साल 1602 में बुंदेला के सरदार ने अबुलफजल की हत्या कर दी

6. फैजी - ( अकबर के दरबार फ़ारसी कवि )

Akbar Ke Navaratna In Hindi

Source www.worldblaze.in

दोस्तों फैजी मुग़ल सम्राट अकबर के दरबार मुख्य सलाहकार थे फैजी अकबर के दरबार में नौरत्नों में शामिल अबुल फजल के भाई थे फैजी फ़ारसी के एक महान ज्ञानी थे और अपने इस हुनर के साथ उन्होंने फ़ारसी भाषा में कई कविताओं की रचना की इनकी इन्हीं विद्वानता को को देख मुग़ल सम्राट अकबर अपने पुत्र की शिक्षा के लिए गणित के शिक्षक के पद नियुक्त किया साथ ही इन्हें दरबार में राज कवि नियक्त किया गया 

7. अब्दुर्रहीम खान-ए-खाना -(एक महान विद्वान् और कवी 

Akbar Ke Navaratna In Hindiimage soruce

मुग़ल दरबार में कवियों की उच्च कोटि में अब्दुर्रहीम खान-ए- खाना भी एक कवि थे इन्हें मुग़ल सम्राट के दरबारियों में एक कवी के रूप में अलग पहचान थी दोस्तों अब्दुर्रहीम खान-ए- खाना में सभी भाषाओ का मेल था इन्हें फ़ारसी भाषा के साथ अरबी, हिन्दी, तुर्की, राजस्थानी और संस्कृत भाषाओं का भी ज्ञान था फ़ारसी में लिखित बाबरनामा को अब्दुर्रहीम खान-ए- खाना ने ही तुर्की भाषा में अनुवाद किया था उनके इस ज्ञान की प्रतिभुदता से अकबर उनसे काफी प्रभावित थे और इसके चलते अकबर ने उन्हें नौरत्नों में भी शामिल किया और साथ में खानखाना की उपाधि प्रदान की 

8. मुल्ला दो प्याजा - (अकबर के मुख्य सलहाकार )

Akbar Ke Navaratna In Hindi

Source www.blog.ashokkumarsharma.com

मुल्ला दो प्याजा दोस्तों इन्हें ये नाम अकबर ने दिया क्योकि इन्हें प्याज खाने का काफी शौक था इनका पूरा नाम अब्दुल हसन था और ये अकबर के नौरत्नों में एक थे हसन भारत में हुमायु के शासनकाल में भारत आये थे अरब में जन्मे मुला दो प्याजा को अकबर ने दरबार में इन्हें मुख्य सलाहकार के रूप में नियुक्त किया 

9. फकीर अज़ुद्दीन - (सम्राट अकबर की रसोई )

Akbar Ke Navaratna In Hindiimage soruce

एकबार के नौरत्नों में फकीर अज़ुद्दीन भी एक थे ये मुग़ल सम्राट अकबर के दरबार  में धार्मिक मंत्री होने के साथ मुख्य सलाहकार भी थे फकीर अज़ुद्दीन ने कई बार मुग़ल साम्राज्य में धार्मिक कार्यो में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है

Read More - जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर का इतिहास