×

वीर योद्धा बर्बरीक जो एक बाण में खत्म कर सकता था महाभारत युद्ध | Barbaric Story In Hindi

वीर योद्धा बर्बरीक जो एक बाण में खत्म कर सकता था महाभारत युद्ध | Barbaric Story In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-6 months ago
+

दोस्तों हम महाभारत युद्ध की कहानियां कई बार सुन चुकें है इस युद्ध के दौरान 100 कौरवों पर 5 पांडवो ने विजय हासिल की थी लेकिन दोस्तों महाभारत से जुड़े कुछ ऐसे पहलु है जो कम लोगो को ही पता है महाभारत के युद्ध में कई योधाओं ने अपने बल दिखाए और युद्ध में वीरता को प्राप्त हुए लेकिन महाभारत में गदाधारी भीमसेन के पोते और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक की कहानी थोड़ी अलग है बर्बरीक को उनकी माता ने बाल्यकाल से ये शिक्षा दी जब भी तुम्हें युद्ध में कोई कमजोर पक्ष दिखे तुम उसका साथ दोगे हम बचपन से सुनते आये है की बर्बरीक में ऐसी सिद्ध शक्तियां थी जिनसे वो महाभारत का युद्ध पलक झपकतें ही खत्म कर सकते थे

बर्बरीक बचपन से एक महान योद्धा थे बर्बरीकने युद्ध की कलाओं का ज्ञान अपनी माँ से लिया माना जाता है की एक बार बर्बरीक ने माता दुर्गा की कड़ी तपस्या की उनकी तपस्या को देख माँ दुर्गा प्रसन्न हुई उन्हें तीन बाण भेंट किये और साथ में उन्हें तीन बाण धारी की उपाधि दी साथ ही उनकी इस तपस्या से प्रसन्न होकर अग्नि देवता ने भी बर्बरीक को धनुष प्रदान किया जो उन्हें तीनो लोको में महान बनाने के लिए काफी था

Barbaric Story In Hindi

Source 3.bp.blogspot.com

जब महाभारत के युद्ध की शुरुआत हुई तब बर्बरीक भी इस महान युद्ध में शामिल होना चाहते थे अपनी इसी इच्छा के साथ बर्बरीक अपनी माता से युद्ध में जाने के लिए आज्ञा लेने गए तब उनकी माता ने बर्बरीक को युद्ध में हारने वाले पक्ष का साथ देने का वचन लिया बर्बरीक ने अपनी माता को वचन दिया की वो इस युद्ध में हारने वाले पक्ष की और से युद्ध में लड़ेंगे अपनी माँ से आज्ञा ले बर्बरीक युद्ध स्थल की और निकल पड़े

अपनी माँ से आज्ञा के बाद बर्बरीक युद्ध स्थल की और जा रहे थे तब भगवान श्री कृष्ण ने एक ब्राह्मण का भेष धारण कर उनका रास्ता रोक लिया श्री कृष्ण ने बर्बरीक का मजाक उड़ाते हुए कहा की तुम सिर्फ तीन बाण के साथ महाभारत जैसे बड़े युद्ध में लड़ने जा रहे हो तब बर्बरीक ने श्री कृष्ण की बात सुन उन्हें जबाब दिया की मेरा एक बाण इस पुरे युद्ध को खत्म कर सकता है मेरे तीन बाण तीनो लोको को परास्त करने के लिए काफी है

तब श्री कृष्ण ने बर्बरीक की परीक्षा लेने के लिए उन्हें पीपल के पेड़ पर लगे सभी पत्तों  को एक बाण में भेदने के लिए बोले श्री कृष्ण की बात सुन बर्बरीक ने अपने कमान से एक तीर निकाल दिया पीपल के सभी पत्तों को भेदने के बाद वो तीर श्री कृष्ण के पैर के पास घूमने लगा क्योंकि श्री कृष्ण ने उसी पीपल के पेड़ एक पत्ते को अपने पैर के निचे दबा लिया था ये नजारा देख बर्बरीक ने भगवान श्री कृष्ण को कहा हे ब्राह्मण अपने पैर को हटा लीजिये नहीं तो ये आपके पैर में भी घुस सकता है

Barbaric Story In Hindi

Source www.jagranjunction.com

इस पूरी घटना के बाद श्री कृष्ण ने बर्बरीक से पूछा की तुम युद्ध में किस तरह से लड़ रहे हो तब उन्होंने बताया की वो अपनी माँ को वचन दे कर आये है की जो भी पक्ष युद्ध के दौरान कमजोर हो तुम उनका साथ देना श्री कृष्ण इस बात को भली भांति जानते थे की इस युद्ध में पांडव विजयी होंगे और कौरव हारेंगे यदि इस स्थित में बर्बरीक ने कौरवों का साथ दे दिया तो युद्ध का परिणाम ही बदल जायेगा इस बात को सोच श्री कृष्ण ने ब्राह्मण के भेष में छल करते हुए उनसे दान की इच्छा मांग की

बर्बरीक ने उन्हें दान का वचन दे दिया कृष्ण ने इस बात को सुन बर्बरीक से उनका शीश दान में मांग लिया शीश दान में मांगने के कारण बर्बरीक  को श्री कृष्ण पर संदेह हुआ और बर्बरीक ने ब्राह्मण के भेष के पीछे छुपे श्री कृष्ण से अपना असली रूप दिखाने की मांग कर दी बर्बरीक की ये बात सुन  श्री कृष्ण ने अपना विराट रूप के दर्शन बर्बरीक को दिए हम सब जानते है की महाभारत में श्री कृष्ण ने कितने छल किये थे और वो कितने बड़े छलिए थे और बर्बरीक से कहा की हमें इस युद्ध की शुरुआत करने के लिए रणभुमि पूजन के लिए एक वीर के शीश की जरुरत है अपने वचन के अनुसार बर्बरीक भगवान कृष्ण को अपना शीश देने के  लिए तैयार हो गए

Barbaric Story In Hindi

Source 4.bp.blogspot.com

लेकिन उन्होंने कृष्ण से एक विनती की उनकी इच्छा है की वो महाभारत के इस महान युद्ध को अपनी आखों से देखना चाहते है श्री कृष्ण ने उनकी ये इच्छा पूरी करने का वचन दिया बर्बरीक ने फाल्गुन माह की द्वादशी के दिन अपना शीश श्री कर्षण को दान दिया भगवान श्री कृष्ण ने बर्बरीक की इच्छा के अनुसार उनका सिर युद्धभूमि के पास एक पहाड़ी पर रख दिया जहां से वो इस युद्ध को देख सकें

श्री कृष्ण बर्बरीक के इस बलिदान से काफी प्रभावित हुए और बर्बरीक को खाटू श्याम स्थान पर स्थापित किया और साथ में बर्बरीक  को श्याम  नाम की उपाधि प्रदान की आज सभी भक्त इन्हें खाटू श्याम बाबा के नाम से भी जानते है लाखों के संख्या में भक्त शयाम बाबा की दर पर मन्नत मांगने आते है