×

स्वतंत्रता सेनानी भीकाजी कामा का जीवन परिचय | Bhikaji Cama Biography In Hindi

स्वतंत्रता सेनानी भीकाजी कामा का जीवन परिचय | Bhikaji Cama Biography In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 month ago
+
  • नाम - भीकाजी कामा 
  • जन्म दिनांक - 24 सितंबर 1861 
  • जन्म स्थान - मुंबई भारत 
  • पिता का नाम - सोराबजी फ्रामजी पटेल 
  • माता का नाम - जयजीबाई सोराबजी पटेल 
  • प्रमुख कार्य - देश की पहली क्रांतिकारी महिला जिसने सवर्प्रथम राष्टीय झंडा फ़हराया
  • मृत्यु दिनांक - 13 अगस्त 1936  मुंबई

नमस्कार दोस्तों देश की स्वतंत्रता के लिए हमारे देश के कई विरो ने लड़ाई लड़ी और देश के लिए अपना बलिदान दिया उन्ही में से एक है भिकाजी रूस्तम कामा जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में एक बड़ा योगदान दिया इन्हें मेडम कामा के नाम से भी जाना जाता था ये अपने जीवन के अधिकतम समय भारत में ही रही मेडम कामा एक फ्रांसीसी नागरिक थी इन्होंने अपने पुरे जीवन दुनिया के हर कोने में घूमकर भारत देश की स्वतंत्रता की बात रखी 22 अगस्त 1907 को मेडम कामा ने जर्मनी के स्टटगार्ट सिटी में सातवीं अंतर्राष्ट्रीय कांग्रेस समारोह के दौरान भारत देश का तिरंगा फहराया था मेडम कामा ने जब यह तिरंगा फहराया था तब उन्होंने इसमें भारत से जुड़े समुदायों के बारे में दर्शाया था तो चलिए दोस्तों जानते भारत की स्वतंत्रता में हिस्सा रही मेडम भीखाजी के जीवन के बारे में.

भीकाजी कामा का जन्म व परिवार | Birth and Family Bhikaiji Cama

Bhikaiji Cama Biography In HindiSource learn.culturalindia.net

भारत की  स्वतंत्रता की प्रमुख हिस्सा रही भीकाजी कामा का जन्म  24 सितम्बर 1861 को मुंबई में पारसी परिवार में हुआ था मेडम भीखा जी के पिता का नाम सोराबजी पटेल था जो एक बड़े व्यापारी थे परिवार में ये कुल 9 भाई बहन थे इनकी माता का नाम जयजीबाई सोराबजी पटेल था भीकाजी का विवाह साल 1885 में एक समाज के लिए कार्य करने वाले रुस्तम जी कामा से हुआ 

भारत की स्वतंत्रता आंदोलन में भीखाजी कामा का सफर | Bhikaiji Cama Journey in India Independence Movement

भीकाजी ने भारत देश की स्वतंत्रता की देश नहीं बल्कि विदेशो में सबसे ज्यादा प्रसार किया देश की आजादी का विदेशो में सबसे अधिक भारत की स्वतंत्रता के मुद्दे को जोर देने का श्रेय मेडम भीखाजी को जाता है मेडम भीखाजी का नाम सर्वप्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में तब सामने आया जब उन्होंने 22 अगस्त 1907 को जर्मनी में कांग्रेस के अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन में तिरंगा फहराया था मेडम भीखा जी ने अपनी शिक्षा एलेक्जेंड्रा नेटिव गल्र्स संस्थान से पूर्ण की मेडम भीखा जी  बचपन   से ही शिक्षा में काफी  होशियार थी 

भीखाजी जीवन भर भारत की स्वतंत्रता के लिए काम किया और वो हमेशा ब्रिटिश साम्राज्य विरोध में रही जब साल 1896 मुंबई शहर एक गंभीर बीमारी से फ्लेग से जूझ रहा था तब भीखाजी ने जी जान से मरीजों की सहायता की थी लोगो की सेवा  करते   करते वो भी इस बीमारी का शिकार हो गई बीमारी के इलाज के लिए उन्हें डॉक्टर्स ने यूरोप जाने की सलाह दी और साल 1906 में लंदन चली गई लंदन में रहते हुए मेडम भीखाजी की मुलाकात भारत के क्रांतिकारी श्यामजी कृष्ण वर्मा, हरदयाल और वीर सावरकर से हुई  जब भीखाजी लंदन में रह रही थी तब  उन्होंने दादा  भाई नवरोजी के मुख्य  सचिव  के रूप  में भी काम किया था 

Bhikaiji Cama Biography In Hindi

Source d218kegnl5or7l.cloudfront.net

दोस्तों दादाभाई नोरोजी प्रथम एशियाई  थे जिन्होंने ब्रिटिश हाउस ऑफ़ कॉमन्स का चुनाव लड़ा था भीकाजी  जब हालेंड में रह रही थी तब उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर भारत देश की कई क्रांतिकारी रचनाएं लोगो के बिच प्रकाशित करवाई और वहां सभी लोगो को इस बारे में बताया और रचनाएं पहुंचाई जब भीकाजी फ्रांस में स्वतंत्रता आंदोलन का प्रसार कर रही थी तब ब्रिटिश सरकार ने फ़्रांस सरकार को उन्हें वापस भेजने की मांग की लेकिन फ़्रांस सरकार ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया बिट्रिश सरकार काफी नाखुश हुआ और उन्होंने भीकाजी की भारत में जो संपत्ति थी उस को अपने अधीन कर लिया साथ ही भीकाजी कामा की भारत में एंट्री पर बैन लगा दिया भारत के सभी क्रांतिकारी उन्हें इस आंदोलन की प्रमुख मानते थे वहीँ दूसरी और अंग्रेज उनके हाथ धो कर पीछे पड़े थे अंग्रेजो ने भीकाजी कामा को आराजकता फैलाने वाली और खतरनाकक्रांतिकारी घोषित कर दिया था 

भीकाजी कामा साल 1905 ने भारत लोटी वो अपने सहयोगी क्रांतिकारी विनायक दामोदर सावरकर और श्यामजी कृष्ण वर्मा के सहयोग से भारत के ध्वज का पहला रूप लेकर लगती थी इस ध्वज में देश के सभी धर्मो के प्रति सम्मान को एक साथ दिखाने की कोशिस की गई

भीकाजी कामा की मृत्यु | Bhikaiji Cama Death

Bhikaiji Cama Biography In Hindi

Source upload.wikimedia.org

उनके भारत लौटने पर भारत के कई बड़े शहर और गांव की गलियों के नाम उनके नाम से रखे गए और साल 1962 में भीकाजी कामा का देश के प्रति त्याग के उपलक्ष में उनके नाम के डाक टिकट जारी किये गए थे भारत की सेनाओ के कई राक्षसाधनो के नाम उनके नाम से जोड़े गए दोस्तों देश को आजाद करने और देश में स्वतंत्रता की अलख जगाने वाली महान क्रांतिकारी महिला का निधन 13 अगस्त 1936 को मुंबई में हुई थी 

जब उनकी जिंदगी के कुछ पल बचे थे तब उनके मुँह से बस एक ही शब्द निकल रहा था वंदे मातरम और वे उनके आखिरी शब्द थे

Read More - स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक का जीवन परिचय