×

नागौर जिले का ये गांव अपने आदर्शों के लिए बना प्रेरणा | Choti Beri Village In Hindi

नागौर जिले का ये गांव अपने आदर्शों के लिए बना प्रेरणा | Choti Beri Village In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-6 months ago
+

नमस्कार दोस्तों राजस्थान जो अपनी संस्कृति और कलाओं के कारण हर क्षेत्र में अलग नजर आता है साथ ही राजस्थान से कुछ बातें ऐसी भी जुड़ी है जो सभी के लिए प्रेरणा बन जाती है यदि सभी उस दिशा की और चले तो बदलाव हो सकता है दोस्तों हम बात कर रहे राजस्थान के डीडवाना तहसील में बसे छोटे से गांव छोटी बेरी की आपने शायद ये नाम पहली बार सुना होगा लेकिन इस गांव के चर्चे काफी है इस गांव की चर्चा के इतने कारण है की सभी को बताया भी नहीं जा सकता यहां के लोगो का मानना ये गांव एक जन्नत है इस गांव की खास बात ये है की यहां पर रहने लोगो में से 95% शिक्षित है और दोस्तों पुरे गांव में आप किसी भी कोने में घूम जाये आपको गुटका बीड़ी सिगरेट और शराब की दुकान नहीं मिलेगी - Choti Beri Village

छोटी बेरी गांव |  Choti Beri Village Story In Hindi

दोस्तों छोटी बेरी गांव की ये सारी खूबियां आप देखना चाहते है तो राजस्थान के नागौर जिले की डीडवाना तहसील के अंदर बसे इस गांव में पधारें दोस्तों इस गांव की उपलब्धियां कागजों तक ही सीमित नहीं है इस गांव में उपलब्धियों के अंबार लगे हुए है इसी गांव के मोहम्मद खान वर्तमान में भाभा परमाणु संस्थान में वैज्ञानिक के रूप में सेवा दे रहे है साथ ही गांव हर क्षेत्र में आगे है छोटी बेरी के युवाओ ने नागौर जिले में हुई सबसे बड़ी क्रिकेट प्रतियोगिता जिसमे कुल 188 टीमों ने भाग लिया था उसे अपने नाम किया था इस गांव में कदम रखते ही साफ - सफाई नजर आने लग जाती है तो चलिए दोस्तों इस छोटी बेरी गांव की और भी खूबियों के बारे में जानते है

Choti Beri Village In Hindi

Source i.ytimg.com

छोटी बेरी गांव की कुल जनसंख्या 10 हजार के आस पास है और गांव में कायमखानी लोगो की संख्या ज्यादा है और इसी वजह से छोटी बेरी को अपने दूसरे नाम कायमखानी से भी जाना जाता है गांव में कदम रखते है इस गांव की भव्यता के दर्शन हो जाते है बड़े बड़े आलिशान बंगले करोड़ो रुपयों की लक्जरी गाड़िया इस गांव के अमीरी के दर्शन कराती है हम इस गांव में सरकारी नौकरी की बात करे तो हर दूसरे घर में व्यक्ति सरकारी पद पर है 

3 तीन घोड़ो की सवारी में मेडल | Fateh Mohammad Khan Choti Beri

Choti Beri Village In Hindi

Source www.panchayattimes.com

गांव की सफलता में चार चाँद तब लग गए जब गांव के ही फतेह मोहम्मद खान जिन्होंने 3 तीन घोड़ो की सवारी कर पुरे देश को चौंका दिया था इस कला के सम्मान में राज्य और भारत सरकार कई मेडल दिए है वर्तमान में फतेह मोहम्मद खान हनुमान गढ़ जिला आबकारी अधिकारी पद पर देश के लिए सेवा कर रहे है आज गांव के बच्चे -बच्चे की जुबां पर मोहम्मद खान का नाम है 

प्रथम महिला मुस्लिम IPS | First woman Muslim IPS Aslam Khan

Choti Beri Village In Hindi

Source www.hindustantimes.com

छोटी बेरी गांव के ही रहने वाले निशार खान ने  संयुक्त राष्ट्र की शांति सेना में भारत देश की और से प्रतिनिधित्व करते हुए बेबनान गए थे छोटी बेरी गांव शिक्षा के प्रति काफी जागरूक है पुरषों के साथ महिलाएं भी कम नहीं है राजस्थान की पहली महिला IPS इसी गांव की है जिनका नाम आईपीएस असलम खान है जो देश की हर महिला के लिए शिक्षा की एक प्रेरणा बन गई है

देश की सेवा का जज्बा

Choti Beri Village In Hindi

Source www.odishabytes.com

राजस्थान एक इस छोटे से गांव छोटी बेरी में वर्तमान समय में 200 से भी ज्यादा जवान भारतीय सेना में अपनी सेवा दे रहे है और करीब 500 से भी ज्यादा देश को अपनी सेवा देकर रिटायर्ट हो चुके है साथ ही देश की आजादी से पहले देश की स्वतत्रता के लिए जान न्योछावर करने के लिए तैयार थे गांव के स्वतंत्रता सेनानी रहे मुकारब खान नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिन्द फौज में थे देश की आजादी के लिए उनके आठ भाइयो में से 7 भाई सेना में थे

गांव में नहीं है गुटका बीड़ी सीगेट शराब की दुकान

गांव की सांप्रदायिकता भी सभी के लिए एक मिशाल है छोटी बेरी गांव में मुस्लिम जाति की अधिक मात्रा होने के बाद भी इस गांव में सभी वर्ग जाति के लोग निवास करते है जाट मेगवाल ब्राह्मण , सुनार , आदि गांव में आज तक किसी भी जातिगत मामले को लेकर झगड़े नहीं हुए है साथ ही पुरे गांव में गुटका बीड़ी , सिगरेट , शराब की दुकान कही नहीं है जो गांव की सस्कृति और नियमों को दर्शाती है गांव में लोग मृत्यु भोज पर भी प्रतिबंद है गांव में 2 पत्रकार है जो अपने काम के लिए पुरे जिले में जाने जाते है

गांव की महिलाओं के हाथ में बागड़ोर

छोटी बेरी गांव में महिलाएं भी किसी वर्ग में पीछे नहीं है गांव में सरपंच रेशमा बानो MA और बीएड  पास है और गांव की पंचायत समिति सदस्य मेहरुनिशां बीए पास है गांव में उप सरपंच भी महिला है यानि गांव की पूर्ण बागड़ोर महिलाओं के हाथ में दोस्तों छोटी बेरी जैसे गांव की तरह यदि देश का हर गांव जागरूक हो जाये  तो आज देश किसी भी कदम पर पीछे नहीं होगा