×

शेखावाटी की कथावाचक जया किशोरी का जीवन परिचय | Jaya Kishori Biography In Hindi

शेखावाटी की कथावाचक जया किशोरी का जीवन परिचय | Jaya Kishori Biography In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-11 months ago
+

जया किशोरी जीवन परिचय उनकी कथा एवं भजन सहित पूरी जानकारी | Jaya Kishori History In Hindi, Jaya kishori Bhajan Hindi, Jaya Kishori Life Story In Hindi

  • नाम - जया शर्मा 
  • जन्म दिनांक - 13 जुलाई 1996 (22 साल)
  • जन्म स्थान - सुजानगढ़ सीकर (राजस्थान )
  • पिता का नाम - राधे श्याम जी हरितपाल (शिव शंकर शर्मा)
  • माता का नाम - गीता देवी हरितपाल

दोस्तों आज हम बात करेंगे भक्ति की दुनिया में लोकप्रिय कथा वाचक जया किशोरी के बारे में जया किशोरी ने छोटी सी उम्र में दुनिया को ये संदेश दिया की  भगवान कही नहीं  वो हमारे मन में बसता है। घर में बड़े लोगो के आशीर्वाद से जया किशोरी पुरे भारत देश में भगवान की आस्था लोगो तक पंहुचा रही है ।जिस उम्र में आज के दौर की लड़किया स्कूल और कॉलेज जाती है उस उम्र में तो जया किशोरी ने भगवत गीता और नानी बाई का मायरो और नरसी की भात की भक्ति की कथाएं सुनाने लग गई थी। कथा वाचन के साथ जया किशोरी ने अपनी पढ़ाई को भी महत्व दिया और भक्ति के साथ-साथ अपनी पढ़ाई के लिए भी समय निकालती रही जया किशोरी ने बी.कॉम की पढ़ाई पूरी कर ली है। दोस्तों आगे कौनसी पढ़ाई कर रही है इस की जानकारी नहीं है। जया किशोरी अपने परिवार में पिता को बहुत प्यार करती है। उनके एक छोटी बहन है वो फ़िलहाल पढ़ाई कर रही है।

Source smedia2.intoday.in

दोस्तों जया किशोरी की जब जया किशोरी के भजन ,जया किशोरी की कथा, होती है तब लाखों की संख्या में उनके भक्त उनकी सुंदर वाणी से निकली कथा सुनने आते है। यदि आपको भी जया किशोरी के वाणी सुननी है तो आप YouTube पर इनकी कथा और भजन सुन सकते है।दोस्तों जया किशोरी देश के अन्य साधु संतो की तरह नहीं है वो केवल एक साधारण महिला है । एव अपनी भक्ति के जरिये लोगो तक भगवान की कथाएँ और भजन सुनती है।

जया किशोरी का जीवन एवं  परिवार | Jaya Kishori History In Hindi

जया किशोरी का जन्म राजस्थान के सीकर जिले के सुजानगढ़ में एक गौड़ ब्राह्मण परिवार में हुआ था। जब जया का जन्म हुआ तब बताया गया की इनका जन्म चन्द्रवंश में हुआ है। इस नक्शत्र में जन्म पाने का सौभाग्य बहुत ही कम लोगो को मिलता है। जया किशोरी ने अपनी स्कूली शिक्षा कोलकाता के महादेवी बिडला वर्ल्ड एकेडमी से पूर्ण की थी। ब्राह्मण परिवार से होने के कारण जया के घर में शुरुआत से ही भक्ति का माहौल रहा था।

Source jayakishori.weebly.com

जब जया 6 वर्ष की थी तब से भगवान श्री कृष्ण के पर्व जन्माष्टमी पर घर में श्री कृष्ण की विशेष तैयारियों के साथ पूजा करती थी। जया किशोरी की इतनी छोटी सी उम्र में ही श्री कृष्ण इतना लगाव था की वो उन्हें अपना भाई मित्र सब कुछ मानने लग गई थी। जया किशोरी 9 साल उम्र इतनी होशियार थी की इस छोटी सी उम्र में जया ने संस्कृत में लिंगाष्ठ्कम, शिव तांडव स्त्रोतम, रामाष्ठ्कम आदि क्षेत्र में भजन गाने लग गई थी। इस बात का सबूत आपको 2018 में आपको उनकी वाणी सुन कर मिल रहा होगा।

धीरे-धीरे जया ने भक्ति में आगे बढ़नी लगी 10 साल की उम्र में जया ने सुंदरकांड के पाठ कर राजस्थान के लाखों दिलो पर राज कर लिया था। जया किशोरी की भक्ति क्षेत्र इतनी छोटी उम्र में लोगो की लोकप्रिय बनाने के कारण जया के माता-पिता को काफी गर्व है। साथ ही उनको भी जया किशोरी से काफी कुछ सिखने के मिलते है। दोस्तों जया किशोरी को छोटे बच्चो से काफी प्यार है

दान के पैसे देती है इस ट्रस्ट में | Jaya Kishori Katha Hindi

दोस्तों जया किशोरी की कथा में जो भी दान आता है वो उदयपुर में बने नारायण सेवा ट्रस्ट में दे देती है। इस ट्रस्ट में अपंग लोगो के इलाज के लिए काम करती है। साथ ही ट्रस्ट में गरीब महिलाओं की शादियां होती है और इस ट्रस्ट में गौ सेवा का कार्य भी किया जाता है। दोस्तों जया किशोरी का जीवन बहुत ही सरल और सादा है । दोस्तों जिस उम्र में लड़किया अपने शौक घूमना फिरना आदि में अपना समय बिताती है जया उस उम्र भगवान श्री कृष्ण का टिका लगा कर उनकी भक्ति करती और इस पथ पर चलना जया किशोरी का मकसद बन गया था। दोस्तों जया किशोरी की चेहरे की चमक बताती है की वो किसी देवी का रूप है यही कारण है भक्त लोग उन्हें प्यार से पूज्य जया साध्वी नाम से पुकारते है। लेकिन दोस्तों जया कोई साध्वी नहीं है वो सिर्फ भगवान की भक्ति करती है वह एक साधारण लड़की है। 

जया किशोरी को सादा भोजन काफी पसंद है और सादे वस्त्र पहनना पसंद है। दोस्तों जया किशोरी को राजस्थान के खाटू श्याम जी मंदिर से काफी लगाव है यही कारण है की जया हर वर्ष खाटू श्याम जी के इस मंदिर अपने पुरे परिवार के साथ जाती है। दोस्तों जब जया किशोरी खाटू श्याम जी के मंदिर जाती है तब किसी होटल में नहीं रूकती बल्कि मंदिर की धर्मशाला में ही विश्राम करती है और शाम के समय भजन व कथा का आयोजन करती है। आज पुरे भारतवर्ष में जया किशोरी को कथावाचक के नाम से जाना जाता है।

जया किशोरी के लोकप्रिय वाक्य | Jaya Kisori In Hindi

दोस्तों जया किशोरी जब भी कथा वाचन करती है तब ये वाक्य जरूर बोलती है जो सब भक्तो के मन को जीत लेता है।

Source totalbhakti.com

“ख्वाहिश तो रसगुल्ले की थी मगर गुण देख कर कोई गुड भी न दे.,” और जैसे “ओ महाराज, महाराज ओ महराज, महाराज महाराज ओ महाराज महराज ओ ओ ओ महराज" - जया किशोरी

दोस्तों ऐसे तो जया किशोरी के काफी वाक्य है लेकिन ये वाक्य काफी प्रचलित है जो हर भक्त के मन को मोह लेता है।

जया किशोरी के भजन लिस्ट  | Jaya Kishori Bhajan List 

1. मेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा है
2. इतनी खात्री करवावे ईगो काई लगे
3. माँ बाप को मत भूलना
4. लिंगाष्टकम मृत्युंजय जाप
5. राधिका गौरि से
5. अच्युतम केस्वाम कृष्ण दामोदरम
6. सबसे ऊँची प्रेम सगाई
7. आज हरी आये विदुर घर
8. गाड़ी में बिठा ले रे बाबा
9. जगत के रंग क्या देखू
10. कृष्ण गोविन्द गोविन्द गोपाल नंदलाल
 हरे कृष्णा हरे कृष्णा हरे रामा हरे रमा