×

शिवाजी महाराज के विचार व् अनमोल कथन | Shivaji Maharaj Quotes in Hindi

शिवाजी महाराज के विचार व् अनमोल कथन  | Shivaji Maharaj Quotes in Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-11 months ago
+

शिवाजी महाराज के विचार | Shivaji Maharaj Quotes in Hindi

शौर्य और साहस की मूर्ती, भारत के वीर सपूत छत्रपति शिवाजी महाराज एक महान देशभक्त व कुशल(Skilled) प्रशासक थे. जहाँ एक तरफ वे महा पराक्रमी थे वहीँ दूसरी ओर वे अपनी दयालुता(Kindness) के लिए भी जाने जाते थे. युद्ध में उनकी रणनीति का कोई सानी नहीं था

 स्वतंत्रता एक वरदान है, 

जिसे पाने का अधिकारी हर कोई को है - छत्रपति शिवाजी महाराज

 

#2.

यदि एक पेड़, जोकि इतनी उच्च जीवित सत्ता नहीं है, 

इतना सहिष्णु और दयालु हो सकता है कि किसी के द्वारा मारे जाने पर भी  उसे मीठे आम दे; 

तो एक राजा होकर, क्या मुझे एक पेड़ से अधिक सहिष्णु और दयालु नहीं होना चाहिए?   - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#3.

" नारी के सभी अधिकारों में,

सबसे महान अधिकार माँ बनने का है. "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#4.

"कभी अपना सर मत झुकाओ,

 हमेशा उसे ऊँचा रखो."  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#5.

" भले हर किसी के हाथ में तलवार हो, 

यह इच्छाशक्ति है जो एक सत्ता स्थापित करती है. "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#6.

" एक छोटा कदम छोटे लक्ष्य पर, 

बाद मे विशाल लक्ष्य भी हासिल करा देता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#7.

" जरुरी नही कि विपत्ति का सामना, 

दुश्मन के सम्मुख से ही करने मे वीरता हो। वीरता तो विजय मे है। "   - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#8.

"जब हौसले बुलन्द हो,

 तो पहाङ भी एक मिट्टी का ढेर लगता है।"  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#9.

"शत्रु को कमजोर न समझो, 

तो अत्यधिक बलिष्ठ समझ कर डरो भी मत।"  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#10.

"जब लक्ष्य जीत की हो, 

तो हासिल करने के लिए कितना भी परिश्रम,

 कोई भी मूल्य क्यों न हो उसे चुकाना ही पड़ता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#11.

" सर्वप्रथम राष्ट्र, फिर गुरु, फिर माता-पिता, 

फिर परमेश्वर।अतः पहले खुद को नही राष्ट्र को देखना चाहिए। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#12.

" अगर मनुष्य के पास आत्मबल है, 

तो वो समस्त संसार पर अपने हौसले से विजय पताका लहरा सकता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#13.

" जो मनुष्य समय के कुच्रक मे भी पूरी शिद्दत से, 

अपने कार्यो मे लगा रहता है। उसके लिए समय खुद बदल जाता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#14.

" शत्रु चाहे कितना ही बलवान क्यो न हो, 

उसे अपने इरादों और उत्साह मात्र से भी परास्त किया जा सकता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj

#15.

" जो धर्म, सत्य, क्षेष्ठता और परमेश्वर के सामने झुकता है। 

उसका आदर समस्त संसार करता है। "  - छत्रपति शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj