×

स्वामी विवेकानंद की जीवनी | Swami Vivekananda Jivani In Hindi

स्वामी विवेकानंद की जीवनी | Swami Vivekananda Jivani In Hindi

In : Meri kalam se By storytimes About :-1 year ago
+

स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय | All About Swami Vivekananda Biography in Hindi

बात आज़ादी से पहले की है. इंटरनेशनल इंटरफेथ समिति का आयोजन अमेरिका के शिकागो प्रान्त में हो रहा था. दुनिया भर के विद्वान यहाँ इस समिति में अपनी(mine) विद्वत्ता का लोहा मनवाने आए हुए थें.

Swami Vivekananda

via : catchnews.com

Swami Vivekananda Life Story

इन्हीं में से एक विद्वान थे जिन्होंने पूरी दुनिया के सामने अपनी गुणवत्ता और विद्वत्ता का लोहा मनवा कर पूरे भारतवर्ष का नाम रौशन किया था. इस विद्वान का नाम था स्वामी विवेकानंद. भगवा चोगे और पगड़ी के साथ लकड़ी की खडाऊं पहनने वाले इस इंसान ने अपनी काबिलियत से कोट-पेंट और सूट-बूट पहनने वाले अंग्रेज़ों को भी अपना फैन बना लिया था. 

Swami Vivekananda

via : oneindia.com

यह उसी समिति की बात है कि एक अँगरेज़ ने स्वामी विवेकानंद ने पुछा कि क्या वह सच में विद्वान हैं और पढ़े लिखे हैं तो स्वामी विवेकानंद ने हामी भर दी. अँगरेज़ ने स्वामी विवेकानंद की चुटकी लेते हुए बोला विद्वान सूट-बूट पहनते हैं, चोगा सन्यासी का लिबास होता है. इस पर स्वामी विवेकानंद ने जवाब दिया - 'आपके देश में विद्वान टेलर के कपडे(clothes) से बनते होंगे, हमारे देश में विद्वान ज्ञान से बनता है'.

Swami Vivekananda

via : ndtvimg.com

यह थे भारत के महान विद्वान स्वामी विवेकानंद को उन्नीसवीं शताब्दी(century) के परम सन्यासी स्वामी रामकृष्ण परमहंस के मुख्य शिष्य थे. स्वामी विवेकानंद ने आगे चल के स्वामी रामकृष्ण मठ और स्वामी रामकृष्ण मिशन की स्थापना पूरी दुनिया भर में अपने मिशन को फैलाने के लिए की थी.

Swami Vivekananda

via : news18.com

स्वामी विवेकानंद का जन्म बंगाल के एक गरीब कायस्थ परिवार में हुआ था. इनके इलावा इनके आठ और भाई-बहन थें. 

Swami Vivekananda

via : myindiamyglory.com

Swami Vivekananda

via : parliamentofreligions.org

Swami Vivekananda

via : desinema.com

Swami Vivekananda

via : yoolyrics.com

Swami Vivekananda

via : ndtvimg.com

Swami Vivekananda

via : blogspot.com

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) का जीवन 

स्वामी विवेकानंद बचपन से ही बहुत होशियार और अपने माता-पिता के संस्कार और गुण की वजह से इस गरीब परिवार के बच्चे ने आगे चल कर दुनिया भर के सौ से अधिक देशों में जाकर मानवता पर भाषण दिएँ और क्लासेज लीं. इनके 'योग', 'राजयोग' और 'ज्ञानयोग' ग्रन्थ आज भी पूरी दुनिया भर में विश्वविख्यात हैं.